DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साक्षात्कार क्षमताओं की परख

साक्षात्कार क्षमताओं की परख

साक्षात्कार या व्यक्तित्व परीक्षण की तैयारी मात्र कुछ दिनों में संभव नहीं होती। इसके लिए अभ्यर्थियों को परीक्षा में बैठने का निर्णय लेते समय से ही सोचना प्रारंभ कर देना चाहिए। इसके बावजूद अंतिम समय की तैयारी भी काफी मायने रखती है, विशेष कर साक्षात्कार की तैयारी। इसके लिए अभ्यर्थियों को किसी श्रेष्ठ कोचिंग संस्थान द्वारा संचालित ‘साक्षात्कार मार्गदर्शन कार्यक्रम’ में अवश्य शामिल होना चाहिए, क्योंकि ऐसे कार्यक्रम के दौरान साक्षात्कार लेने वाले साक्षात्कार बोर्ड में विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ तथा यूपीएससी के पूर्व सदस्य शामिल होते हैं, जो अभ्यर्थियों के मजबूत पक्षों को उभारते हैं तथा कमजोर पक्षों का पता लगा कर उन्हें सुधारने के उपाय भी बताते हैं।

साक्षात्कार की तैयारी के दौरान अभ्यर्थी को अपने जीवन-वृत्त के विविध बिन्दुओं तथा यश, शौक, संबंधित राज्य,अतिरिक्त  रुचि की गतिविधियों आदि की तैयारी अवश्य कर लेनी चाहिए।
इन बातों का अवश्य ध्यान रखना चाहिए-

पूरा माहौल सकारात्मक एवं खुशनुमा बना रहे।
अभ्यर्थी को उस दिन धूम्रपान से बचना चाहिए।
साक्षात्कार स्थल पर समय से पहुंच कर अनुशासन का पालन करना अभ्यर्थी के लिए परम आवश्यक है।
उस दिन का समाचार पत्र अवश्य पढ़ लें, जिस दिन आप साक्षात्कार के लिये जा रहे हों।
बोर्ड के सदस्यों के समक्ष जाने से पहले आप थोड़ा पानी अवश्य पी लें।
जब आप साक्षात्कार वाले कमरे के अंदर प्रवेश कर रहे हों, तो उस समय सामान्य मुस्कान के साथ बोर्ड के अध्यक्ष व सदस्यों का अभिवादन करना न भूलें।
बोर्ड द्वारा एक बार स्थान ग्रहण के आदेश पर अभ्यर्थी को धन्यवाद देते हुए अपना स्थान ग्रहण करना चाहिए।
बैठने की मुद्रा आरामदायक, किंतु सावधानीपूर्वक होनी चाहिए।
प्रश्नों का उत्तर प्रश्नकत्त्रा की ओर देखते हुए पूरी तन्मयता व गहराई से देना चाहिए।
जिस भाषा में प्रश्न पूछा जा रहा हो, उसी भाषा में उत्तर देने की कोशिश करनी चाहिए।
उत्तेजना में भी आत्मसंयम बनाये रखना आवश्यक होता है।
अभ्यर्थियों को यह भी ध्यान देना चाहिए कि जब नया प्रश्न पूछ दिया गया हो, तब पहले प्रश्न का ही उत्तर न देते रह जाएं।
जब बोर्ड की अध्यक्ष आपका साक्षात्कार समाप्त करें, उस समय आप शीघ्र उठें और धन्यवाद देते हुए गौरवपूर्ण मुस्कान के साथ बाहर निकलें।

इन बातों का ध्यान अवश्य रखें, जिन्हें आप भूल कर भी न भूलें-

इंटरव्यू कक्ष में प्रवेश करते समय कुर्सी को खींच कर शोर करते हुए न बैठें।
किसी भी बिंदु पर असहमति की स्थिति में उत्तेजित न हों। साथ ही जवाब देते समय हाथों को बांध कर न बैठें।
बहुत धीमा व अधिक ऊंचा न बोलें। अगर आप उत्तर देते समय काफी अनमने ढंग से जवाब देते हैं तो इससे  आपकी आवाज में निराशा झलकती है, जो आपके नकारात्मक पहलू को ही उजागर करती है।
(चाणक्य, आईएएस एकेडमी के निदेशक एवं सक्सेस गुरू के ए. के. मिश्रा से बातचीत पर आधारित)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साक्षात्कार क्षमताओं की परख