DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आश्वासन पर माने ग्रामीण, आंदोलन समाप्त

श्रीनगर। श्रीनगर जल विद्युत परियोजना से प्रभावित ग्रामीणों का आठ दिनों से जीवीके कपंनी कार्यालय पर चल रहा धरना सोमवार को एसडीएम श्रीनगर एवं जीवीके कंपनी के आश्वासन के बाद स्थगति हो गया। ग्रामीणों की चारे पत्ते सहित मुआवजे की मांग फरवरी अंतिम सप्ताह तक पूरी करने का आश्वासन दिया गया। जबकि पैकेज देने की मांग पर 16 मार्च को कंपनी के निदेशक प्रसन्ना रेड्डी के साथ बैठक होगी। जिसके बाद भी उक्त मांग पर कार्यवाही सुनशि्चित की गई।

कंपनी के आश्वासन के बाद ग्रामीणों को आठ दिनों से चल रहा धरना प्रदर्शन कार्यक्रम स्थगति हो गया। फरासू, मंदोली, सेम, स्वीत आदि गांव के ग्रामीण पिछले आठ दिनों से श्रीनगर जल विद्युत परियोजना कंपनी से मुआवजा देने, भवन पर पड़ी दरार का मुआवजा देने, बाउंस हुए चेक का शीघ्र भुगतान करने की सहित अनेक मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे है।

सोमवार को ग्रामीणों ने कंपनी के कार्यालय पर तालाबंदी कर जल्द मांगों पर कार्यवाही की मांग की। ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए मौके पर पहुंचे एसडीएम रजा अब्बास एवं विद्युत परियोजना कंपनी के समन्वयक संतोष रेड्डी ने ग्रामीणों से वार्ता कर मांगे हल करने करने का आश्वासन दिया।

प्रभावित कुलदीप रावत, राम लाल, सीमा देवी, गणेश लाल, वमिला देवी ने बताया एसडीएम की उपस्थिति में जिन बातों को लेकर कंपनी द्वारा आश्वासन दिया गया है यदि उसके अनुसार कार्य नहीं होता है तो आंदोलन दोबारा शुरू किया जायेगा।

इस मौके पर सुभषा नेगी, लीलानंद, राजेन्द्र सिंह, पुष्कर भंडारी, दीपा देवी, प्रमिला, आदित्य, राजेश्वरी देवी, भागा देवी, बीना देवी, विजय, रानी देवी, विजय पाल नेगी, धनीराम, वसु देवी, मीनू, संध्या, छोटी, सुरेन्द्र सिंह, मनोरमा, साजन, गणेश, सौरभ, सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आश्वासन पर माने ग्रामीण, आंदोलन समाप्त