DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान विरोधी हैं केंद्र और राज्य की नीतियां

नई टिहरी। हमारे संवाददाता। उत्तराखंड किसान सभा के गजा मंडल के सम्मेलन में किसानों की समस्याओं पर चर्चा हुई। किसानों ने सार्वभौम सार्वजनिक वितरण प्रणाली लागू करने व मनरेगा के प्रावधानों को पूर्ण रूप से लागू करने की मांग की।

सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए किसान सभा के जिला सचिव भगवान सिंह राणा ने कहा कि केंद्र सरकार की कृषि एवं आर्थिक नीतियां गलत होने के कारण किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं। जबकि भू माफिया चांदी काट रहे हैं। कहा कि सार्वभौम सार्वजनिक वितरण प्रणाली लागू न होने से उपभोक्ताओं को सस्ते दरों पर राशन नहीं मिल रहा है।

कहा कि मनरेगा के प्रावधानों का पूर्ण पालन न होने से लोगों को मनरेगा जैसी महत्वकांक्षी योजना का भी लोगों को पूरा लाभ नहीं मिल रहा है। कहा कि सार्वभौम सार्वजनिक वितरण प्रणाली लागू करने व मनरेगा के प्रावधानों को पूर्ण रूप से लागू किए जाने को लेकर सरकार पर दबाव बनाने की आवश्यकता है।

सम्मेलन में 21 सदस्यीय मंडल कार्यकारिणी का गठन किया गया। इसमें जोत सिंह नेगी अध्यक्ष, बैशाख सिंह चौहान व कुलानंद कोठारी उपाध्यक्ष, रतन सिंह रावत सचवि, शवि सिंह चौहान कोषाध्यक्ष तथा श्रीचंद सिंह व आशा देवी संयुक्त सचवि चुने गए।

इसके अलावा दर्मियान सिंह नेगी, वशिला देवी, कमल सिंह, आनंद सिंह, बचन सिंह, मदन सिंह, सुंदर सिंह व राजीदेवी कार्यकारिणी सदस्य चुने गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसान विरोधी हैं केंद्र और राज्य की नीतियां