DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

75 प्वाइंट पर अटकी मेरिट सूची, अभिभावकों की बढ़ी मुसीबत

75 प्वाइंट पर अटकी मेरिट सूची, अभिभावकों की बढ़ी मुसीबत

नई दिल्ली। कार्यालय संवाददाता। नर्सरी दाखिले के तहत इस साल से लागू किया गया प्वाइंट सिस्टम आम अभिभावकों के लिए मुसीबत बनता दिख रहा है। दरअसल, इस साल नर्सरी दाखिले के तहत स्कूल के पास के लोगों को फायदा मिल सके इसके लिए प्वाइंट सिस्टम में सबसे ज्यादा प्वाइंट नेबरहुम्ड (आठ किलोमीटर के दायरे में रहने वालों को) को दिगया गया था। लेकिन पिछले कुछ दिनों में कई स्कूलों द्वारा निकाले गए मेरिट लिस्ट के अनुसार नियमों में किए गए बदलाव का फायदा नेहबुहड और ट्रांसफर या एल्युमनि क्षेत्र में आने वाले अभिभावकों को होता दिख रहा है।

यही वजह है कि ज्यादातर स्कूलों द्वारा जारी की गई मेरिट लिस्ट में कटऑफ 75 प्वाइंट तक जा रहा है। जिस वजह से 70 प्वाइंट के तहत आवेदन करने अभिभावकों को दाखिले के लिए बच्चों का लिस्ट आने का इंतजार बढ़ता जा रहा है। एड़ाशिन्स नर्सरी डॉट कॉम के संस्थापक सुमित वोहरा ने बताया कि जिस उद्देश्य के लिए उपराज्यापाल ने इस साल नियमों में बदलाव किए थे। अब उसका फायदा आम अभिभावकों तक पहुंचता नहीं दिख रहा है। उन्होंने बताया कि दिल्ली में डीपीएस मथुरा रोड, डीपीएस द्वारका, डीपीएस आरके पुरम और डीपीएस वसंत कुंज द्वारा जारी किए मेरिट लिस्ट में 75 प्वाइंट वालों की संख्या सबसे ज्यादा है।

ऐसे में 75 प्वाइंट होने के बाद भी कई अभिभावकों को इंतजार करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि डीपीएस वसंतकुंज द्वारा जारी की गई मेरिट लिस्ट में भी कुछ ऐसा ही दिखा। स्कूल द्वारा जारी की लिस्ट के मुताबिक ज्यादातर सीटें 75 प्वाइंट वालों के बीच ही भर ली गई हैं। अब बची तीन सीटों पर 70 प्वाइंट वालों को दाखिला दिया जाएगा। जबकि इन तीन सीटों के लिए कुल 1400 आवेदक हैं। उन्होंने बताया कि अगर दूसरे स्कूल भी इसी तरह मेरिट सूची जारी करते हैं तो इससे आम अभिभावक जो सिर्फ नेबरहुड प्वाइंट ही हासिल कर सकता है को दाखिले के लिए और इंतजार करना पड़ सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:75 प्वाइंट पर अटकी मेरिट सूची, अभिभावकों की बढ़ी मुसीबत