DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भोजपुरी की दुर्दशा के लिए भोजपुरी भाषी जिम्मेवार

हमारे प्रतिनिधि सीवान। भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए अखिल भारतीय विश्व भोजपुरी मंच व अखिल विश्व भोजपुरी विकास मंच ने ऐतिहासिक पहल शुरू कर दी है। रविवार को मंच के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. बीएन तिवारी उर्फ भाईजी भोजपुरिया, बीजेपी नेता उदेश्वर सिंह व भारत-मॉरीशस मैत्री संघ के सचवि डॉ. टीएन उपाध्याय ने इसकी जानकरी संयुक्त रूप से प्रेसवार्ता में दी।

उन्होंने कहा कि भोजपुरी की दुर्दशा के लिए भोजपुरी भाषी कहीं न कहीं जिम्मेवार है। भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूचि में शामिल करने की दिशा में गृह राज्य मंत्री के सकारात्मक पहल का उल्लेख करते हुए उम्मीद जताई गई कि लोकसभा चुनाव से पहले इस दिशा में घोषणा हो सकती है। सदस्यों ने कहा कि बीजेपी के राज्यसभा सांसद डॉ. सीपी ठाकुर ने भी सहयोग का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार अब भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूचि में शामिल करने से नहीं पीछे हट सकती।

डॉ. तिवारी ने कहा कि इधर भोजपुरिया समाज की ओर से बिहारी कनेक्ट डॉट कॉम के बैनर तले जिले के एक सौ गरीबों का नि:शुल्क मोतियाबिंद का ऑपरेशन डॉ. अनिल कुमार सिंह करेंगे। मौके पर बीजेपी नेता ने कहा कि जिले के 38 वार्ड से एक-एक व आठों विधानसभा क्षेत्र से दस-दस गरीब व असहाय लोगों का इसके लिए चयन प्रक्रिया चल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भोजपुरी की दुर्दशा के लिए भोजपुरी भाषी जिम्मेवार