DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्वोत्तर की बेटियां पढ़ेंगी हिन्दी व हिम्मत का पाठ

 नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाता। नीदो तानिया की मौत, दो युवतियों के साथ छेड़छाड़ और फिर वसंत वहिार थाना क्षेत्र में नाबालिग के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पुलिस अब इन घटनाओं को रोकने का दूसरा जरिया तलाश रही है। दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमशि्नर रॉबिन हबिू ने जल्द से जल्द पूर्वोत्तर की लड़कियों को एमरजेंसी सेल्फ डिफेंस ट्रेनिंग देने का खाका तैयार किया है।

साथ ही पूवोत्तर के युवक-युवतियों को हिन्दी भी सिखाई जाएगी ताकि वे सबसे मेलजोल बढ़ा सकें, साथ ही अपनी बात भी आसानी से रख सकें। दुष्कर्म, छेड़छाड़, मौत, आत्महत्या से लेकर नस्लीय टिप्पणियों तक पूर्वोत्तर के युवक-युवतियों के साथ आए दिन आपराधिक घटनाएं हो रही हैं। बीते साल पूवोत्तर की युवती के साथ गैंगरेप और हत्या की घटना के बाद इस साल की शुरुआत भी पूवोत्तर के लोगों के साथ चार वारदातों के साथ हुई है। अरुणांचल स्टूडेंट यूनियन से पूर्व अध्यक्ष जेटी तगम के अनुसार पूवोत्तर से बड़ी संख्या में युवक-युवतियां दिल्ली आकर पढ़ते हैं।

यहां कई बार भाषागत समस्या के चलते वे हिन्दीभाषी लोगों से मेलजोल ज्यादा नहीं बढ़ा पाते। अगर वे हिन्दी सीखेंगे तो अपनी बात आसानी से रख सकेंगे। शायद इसी बिंदु को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने ट्रेनिंग देकर उन्हें हिंदी सिखाने का बीड़ा उठाया है। फरवरी के आखिरी सप्ताह सिरी फोर्ट कराटे क्लब में यह ट्रेनिंग देने की तैयारी की गई है। दो घंटे प्रतिदिन के इस तय कार्यक्रम में एक घंटे सेल्फ डिफेंस के साथ-साथ एक घंटे हिंदी सिखाई जाएगी।

पूर्वोत्तर के सभी महिला एवं छात्र संगठनों और समाजसेवी संगठनों से इस एमरजेंसी से नोडल आफसिरे तय करके इस एमरजेंसी ट्रेनिंग में ज्यादा से ज्यादा पूर्वोत्तर के छात्र-छात्राओं को शामिल करने के लिए कहा गया है। यह ट्रेनिंग शनिवार अपराह्न् और रविवार के अलावा छुट्टी के दिन देने की बात हो रही है। यहां पुलिस ट्रेंड स्टाफ के जरिये इन युवक-युवतियों को अपनी सुरक्षा करने के तरीके सिखाए जाएंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूर्वोत्तर की बेटियां पढ़ेंगी हिन्दी व हिम्मत का पाठ