DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनलोकपाल विधेयक पास नहीं हुआ तो दूंगा इस्तीफा

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा कि अगर जनलोकपाल विधेयक पास नहीं हुआ तो वो अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। हालांकि इस मुद्दे पर सियासत गरमाने के बाद गृहमंत्रालय के रुख में नरमी के संकेत मिले हैं।
केजरीवाल ने विधेयक पास कराने को लेकर एक बार फिर अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा,‘हमारा सत्ता में रहने से ज्यादा महत्वपूर्ण है जनलोकपाल विधेयक पास होना। अगर हम जनलोकपाल बिल पास नहीं करा पाते तो हमें अपने आफिस में बैठने का अधिकार नहीं है। मैं मुख्यमंत्री बनने नहीं आया था। मेरा मकसद देश से भ्रष्टाचार को खत्म करना है।’

उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस साथ नहीं देगी तो मैं इस्तीफा दे दूंगा। इसके बाद जनता कांग्रेस को सबक सिखाएगी। केजरीवाल ने दोबारा चुनाव होने पर बहुमत से सत्ता में आने का भरोसा जताया। उन्होंने बताया कि उनकी सरकार 13 फरवरी को जनलोकपाल और स्वराज विधेयक विधानसभा में पेश करेगी।

केंद्र कर सकता है चिट्ठी पर विचार: सूत्रों के अनुसार केजरीवाल की चिट्ठी के बाद गृहमंत्रालय 12 साल पुराने उस आदेश को वापस लेने पर विचार कर सकता है, जिसमें किसी विधेयक को दिल्ली विधानसभा में पेश करने से पहले मंत्रालय की मंजूरी लेने का प्रावधान है। गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे सोमवार को दिल्ली लौट रहे हैं। आला अधिकारियों के साथ बैठक कर वे केजरीवाल की चिट्ठी को कानून मंत्रालय को सलाह के लिए भेज सकते हैं। केजरीवाल ने अपनी चिट्ठी में  गृहमंत्रालय से मंजूरी संबंधी प्रावधान को हटाने की मांग रखी है। बहरहाल, इस पत्र को लेकर केंद्र गंभीर है। 2002 के आदेश को कानूनी सलाह के बाद ही रद्द किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए कानून मंत्रालय की सहमति जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जनलोकपाल विधेयक पास नहीं हुआ तो दूंगा इस्तीफा