DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिलानी व अन्य पर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग

गिलानी व अन्य पर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग

दिल्ली की एक अदालत ने उस याचिका पर 19 फरवरी को आदेश पारित करने का फैसला किया है, जिसमें कश्मीर तथा भारत के अन्य हिस्सों में लोगों के बीच कथित नफरत फैलाने के लिए अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी और तीन अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आग्रह किया गया है।

मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट विजेता सिंह ने दो शिकायतकर्ताओं के तर्क सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया और सीआरपीसी की धारा 156 (3) के तहत आवेदन पर आदेश सुनाने के लिए 19 फरवरी की तारीख निर्धारित की। शिकायतकर्ताओं ने दावा किया था कि हुर्रियत कान्फ्रेंस के कटटरपंथी धड़े के प्रमुख गिलानी ने कई मौकों पर नफरत फैलाने वाले भाषण देकर भारत सरकार और इसके लोगों की सुरक्षा को खतरे में डाला।

जिरह के दौरान दोनों शिकायतकर्ताओं की ओर से पेश हुए वकील ने कहा कि प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश देना अदालत के अधिकार क्षेत्र में आता है, क्योंकि गिलानी और तीन अन्य के कथित बयानों को दिल्ली में भी सुना गया है।

जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे और वहां लागू रणबीर दंड संहिता की प्रासंगिकता के मुद्दे पर वकील ने तर्क दिया कि ये चारों लोग भारतीय हैं, और इसलिए भारतीय दंड संहिता तथा अन्य कानूनों के प्रावधान उन पर लागू होते हैं।

इसके पूर्व अदालत ने दोनों शिकायतकर्ताओं से इस बारे में स्पष्टीकरण मांगा था कि मामले में भारतीय दंड संहिता के प्रावधान किस तरह लागू हो सकते हैं, क्योंकि गिलानी और अन्य तीन द्वारा कथित अपराध जम्मू-कश्मीर में किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गिलानी व अन्य पर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग