DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परमात्मा का असली नाम है ओम-शास्त्री

बड़ाैत। नगर के बावली रोड स्थित दयानंद बाल विद्या मंदिर स्कूल के प्रागंण में शनिवार से आर्य समाज का 134वां वार्षिकोत्सव का शुभारंभ हुआ। प्रथम दिन हवन ,भजन व प्रवचन का आयोजन हुआ। वार्षिकोत्सव के शुभारंभ पर सुबह के समय साधकों द्वारा योग क्रियाएं की गई, जिनमें प्रीतम सिंह आर्य ने चक्र आसन, गोमुख आसन की क्रियाएं कराई।

राजीव जैन ने प्राणायाम, गहरे लंबे सांस, अनुलोम विलोम, अग्निसार तथा कपाल भांति की क्रियाएं कराई। इसके बाद आठ बजे यज्ञ का आयोजन हुआ,जिसके ब्रह्मा सत्यपाल शास्त्री तथा राजकुमार यज्ञमान रहे। श्रीपाल आर्य ,चरण सिंह मलिक, अशोक कुमार आर्य ने अपने भजनों द्वारा समाज में व्याप्त पांखड़ो, भ्रष्टाचार आदि पर प्रकाश डालते हुए जन समुदाय को भाव विभोर कर दिया। सत्यपाल शास्त्री ने नवयुवकों तथा बच्चों को देश का भावी सरंक्षक बताते हुए अपने माता-पिता का आदर करने,उनकी आज्ञा का पालन करने पर विशेष बल दिया।

परमात्मा का असली नाम ओम बताते हुए इसे संसार को बनाने वाला, उसका पालन करने वाला तथा संहार करने वाला बताया। इस मौके पर संयोजक डा. ओमवीर सिंह, डा. हरपाल सिंह, वशिंबर मलिक, ब्रह्म सिंह, रामबली राणा, रामपाल प्रधानाचार्य, विजय कुमार, देवेन्द्र सिंह, सत्यपाल सिंह, उमेश शर्मा, सुभाष शर्मा आदि थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परमात्मा का असली नाम है ओम-शास्त्री