DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर सैयद की विरासत को संजोने का संकल्प

नई दिल्ली। समाज सुधारक सैयद अहमद खान की विरासत को संजोए रखने के लिए नई दिल्ली के कंस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित एक विचार गोष्ठी में वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर ने कहा कि सर सैयद अपने हिन्दुस्तानी होने पर फा करते थे और उन्होंने लोगों को भाईचारे और अमन के साथ रहने की सीख दी। आज भी मुस्लिम समाज शिक्षा में पीछे है। आधुनिक शिक्षा में सैयद साहब ने उल्लेखनीय योगदान किया। सर सैयद खान मशिन की ओर से आयोजित इस गोष्ठी में पूर्व केन्द्रीय मंत्री आरिफ मोहम्मद खान और पंजाब विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर जसपाल सिंह समेत कई अन्य वक्ताओं ने अपने विचार रखे।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री आरिफ मोहम्मद ने लोगों से सैयद खान की विरासत को संभाल कर रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में सर सैयद के बारे में तो बहुत लिखा गया है लेकिन खुद उनके द्वारा लिखे गए दस्तावेज बहुत कम मौजूद हैं। पंजाब विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रोफेसर जसपाल सिंह ने सैयद अहमद खान के मशिन में पंजाब के योगदान को सराहा। उन्होंने कहा कि पंजाब के लोगों ने सर सैयद को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए काफी चंदा दिया था।

सर सैयद मशिन के चेयरमैन गजानंद प्रसाद ने बताया कि उनका मशिन सर सैयद की आधुनिक शिक्षा और भाईचारे की विरासत को पूरे देश में फैलाना चाहते हैं। इसके लिए उनका मशिन देशभर में हस्ताक्षर अभियान चलाएगा। इसमें 2 लाख लोगों को शपथ दिलाई जाएगी, ताकि देश में तार्किक और आधुनिक शिक्षा को बढ़ावा मिले। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने भी शिरकत की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सर सैयद की विरासत को संजोने का संकल्प