DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आप सरकार को मिला सोराबजी का साथ

आप सरकार को मिला सोराबजी का साथ

चर्चित अधिवक्ता सोली सोराबजी ने शनिवार को दिल्ली सरकार के इस फैसले का समर्थन किया कि विधानसभा में जनलोकपाल विधेयक को पेश करने से पहले केन्द्र की पूर्व मंजूरी की कोई जरूरत नहीं है।

दिल्ली सरकार को दी अपनी राय में उन्होंने कहा कि वर्ष 2002 के सदन के कामकाज संबंधी नियमों में गंभीर कानूनी खामियां हैं जिसके तहत कुछ खास तरह के विधेयकों को पेश करने से पहले केन्द्र सरकार की मंजूरी की जरूरत होती है। दिल्ली सरकार ने उनसे पूछा था कि क्या टीबीआर का नियम संख्या 55 (1) संविधान का उल्लंघन करता है और क्या केन्द्र सरकार को दिल्ली की एनसीटी सरकार अधिनियम की धारा 44 के तहत नियम बनाने की शक्ति है।

सोराबजी ने अपनी राय में कहा कि मेरी राय में, इस नियम में गंभीर कानूनी खामियां हैं। न तो अनुच्छेद 239 एए और न ही जीएनसीटीडी कानून उपराज्यपाल को इसे केन्द्र सरकार के पास भेजने की शक्ति या जरूरत बताता है।

पूर्व अटार्नी जनरल ने कहा कि विधेयक को पेश करने को लेकर संविधान या जीएनसीटीडी कानून के तहत कोई रोक या शर्त की अनुपस्थिति में टीबीआर नियम संविधान और जीएनसीटीडी कानून का उल्लंघन करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आप सरकार को मिला सोराबजी का साथ