DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईओसी के नियमों का पालन करे आईओएः सुशील कुमार

आईओसी के नियमों का पालन करे आईओएः सुशील कुमार

ओलंपिक रजत पदक विजेता सुशील कुमार ने कहा है कि भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) यदि समय पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के नियमों का पालन कर चुनाव करा लेता तो भारतीय एथलीट सोच्चि में अपने ध्वज के तहत न उतर पाने की शर्मिंदगी से बच सकते थे।
 
आईओसी चुनावों में अनियमितता बरतने के कारण वर्ष 2012 में आईओए को प्रतिबंधित कर चुका है जिसके कारण रूस के सोच्चि में चल रहे शीतकालीन ओलंपिक में भारतीय एथलीटों शिवा केशवन, एल्पाइन स्कीयर हिमांशु ठाकुर और नदीम इकबाल को आईओसी के ध्वज के तहत उतरना पड़ा है।
 
भारत के लिए ओलंपिक में दो बार पदक जीत चुके पहलवान सुशील ने कहा कि अपने राष्ट्रीय ध्वज के तहत नहीं उतर पाने से भारतीय एथलीटों के प्रदर्शन पर इसका काफी असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सबसे पहले तो मैं सभी को बधाई देना चाहता हूं। मेरे लिए यह बहुत ही चौंकाने वाली बात है कि भारतीय एथलीट आईओसी ध्वज के तहत नहीं खेल रहे हैं।
 
उन्होंने एक चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा कि यह भावना काफी अजीब है कि कोई भारत का प्रतिनिधित्व कर रहा है लेकिन किसी और के ध्वज के तहत खेल रहा है। इससे न सिर्फ हमारे एथलीटों की भावनाएं आहत होंगी बल्कि उनके प्रदर्शन पर भी इसका असर पड़ेगा।
 
सुशील ने कहा कि आईओए को समय पर चुनाव करा लेने चाहिए थे ताकि इन एथलीटों को यह शर्मिंदगी न उठानी पड़ती। पूरी दुनिया आईओसी के नियमों का पालन करती है इसलिए हमें भी इसके अनुसार काम करना चाहिए। जो भी एथलीट देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं।
               

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईओसी के नियमों का पालन करे आईओएः सुशील कुमार