DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत जीत से अभी भी 320 रन दूर

भारत जीत से अभी भी 320 रन दूर

न्यूजीलैंड की दूसरी पारी के नाट्कीय पतन के बाद भारत को पहले क्रिकेट टेस्ट में जीत के लिए 407 रन का लक्ष्य मिला और तीसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद भारत जीत से 320 रन दूर रह गया है।
     
अपने शुक्रवार के स्कोर चार विकेट पर 130 रन से आगे खेलते हुए भारतीय टीम पहली पारी में 202 रन पर आउट हो गई जिससे न्यूजीलैंड को 301 रन की बढ़त मिली। रात के नाबाद बल्लेबाज रोहित शर्मा (72) और अजिंक्य रहाणे (26) बड़ी पारियां नहीं खेल सके।
     
न्यूजीलैंड ने फॉलोऑन नहीं दिया लेकिन दूसरी पारी में बड़ा स्कोर बनाने की उसकी उम्मीदों पर भारतीय गेंदबाजों ने पानी फेर दिया। भारत ने न्यूजीलैंड की दूसरी पारी को 41.2 ओवर में 105 रन पर समेट दिया। खेल के तीसरे दिन आज कुल सत्रह विकेट गिरे।
      
न्यूजीलैंड के लिए रॉस टेलर ने सर्वाधिक 41 रन बनाए। उनके अलावा सिर्फ तीन कीवी बल्लेबाज दोहरे अंक तक पहुंच सके। भारत के लिए तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने 38 रन देकर तीन और इशांत शर्मा ने 28 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि जहीर खान को दो विकेट मिले।
     
तीसरे दिन का खेल समाप्त होने पर भारत ने एक विकेट पर 87 रन बना लिए थे। अभी भी भारत को जीत के लिए 320 रन बनाने हैं जबकि पूरे दो दिन का खेल शेष है और उसके पास नौ विकेट भी हैं। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन 49 और चेतेश्वर पुजारा 22 रन बनाकर खेल रहे हैं। धवन तीसरे दिन ईश सोढी की आखिरी गेंद पर पगबाधा की जोरदार अपील से बचे।
     
भारत यदि जीत जाता है तो टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में लक्ष्य का पीछा करते हुए यह दूसरी सबसे बड़ी जीत होगी। वेस्टइंडीज के नाम लक्ष्य का पीछा करके सबसे बड़ी जीत दर्ज है जब मई 2003 में सेंट जोंस में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसने रिकॉर्ड 418 रन के लक्ष्य का पीछा किया था। अब तक सिर्फ तीन बार 400 से अधिक रन का लक्ष्य हासिल किया जा सका है।
     
भारत ने 1976 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 406 रन का लक्ष्य हासिल करके जीत दर्ज की थी। ऑस्ट्रेलिया ने 1976 में इंग्लैंड के खिलाफ 404 रन का लक्ष्य हासिल किया था।
     
भारत ने सुबह के सत्र में चार विकेट जल्दी ले लिए और न्यूजीलैंड इस दबाव से निकल ही नहीं सका। शमी ने इसकी शुरुआत की जिसने पारी के पहले ओवर की आखिरी गेंद पर हामिश रदरफोर्ड को पगबाधा आउट किया। दो ओवर बाद उसने पीटर फुल्टन (5) को कवर पर रविंद्र जडेजा के हाथों लपकवाया।
     
जडेजा ने छठे ओवर में जहीर की गेंद पर केन विलियमसन का कैच लपका। उन्होंने मुस्तैदी से क्षेत्ररक्षण करते हुए न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रेंडन मैकुलम (1) को रन आउट किया। लंच के समय न्यूजीलैंड का स्कोर चार विकेट पर 15 रन था। इसके बाद टेलर और कोरे एंडरसन ने पारी को संभालने की कोशिश की लेकिन शमी ने इसे नाकाम कर दिया।
    
उसने खेल शुरू होने के बाद छठे ओवर में एंडरसन (2) को बोल्ड किया। न्यूजीलैंड का स्कोर इस समय पांच विकेट पर 25 रन था और सारा दबाव टेलर पर आन पड़ा था। बी जे वॉटलिंग ने उनका साथ निभाने की कोशिश की और छठे विकेट के लिए 38 रन जोड़े। ऐसे में जब दोनों क्रीज पर जमते नजर आ रहे थे, टेलर ने जहीर की गेंद पर खराब शॉट खेला और गली में अजिंक्य रहाणे द्वारा लपके गए।
     
बीच के ओवरों में रन काफी धीमी गति से बने और बल्लेबाज विकेट बचाने का ध्येय लेकर खेलते दिखे। इशांत और जडेजा को इस बीच सफलता नहीं मिलती देख कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने गेंद फिर शमी को सौंपी।    
दूसरे छोर से हालांकि जडेजा ने ही कामयाबी दिलाते हुए टिम साउदी (14) को पवेलियन भेजा। वॉटलिंग 11 रन पर नाबाद रहे। इससे पहले खराब रोशनी के कारण दूसरे दिन खेल जल्दी समाप्त होने के बाद तीसरे दिन आधा घंटा जल्दी शुरू किया गया। रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे बड़ी साझेदारी की ओर बढ़ते नजर आ रहे थे।

सुबह छठे ओवर में हालांकि रहाणे अपना विकेट गंवा बैठे जिसके बाद विकेटों का पतन शुरू हो गया। टिम साउदी की गेंद पर उन्होंने पहली स्लिप में कैच थमाया। अगले ओवर में रोहित ने भी खराब शॉट खेला और बोल्ट की गेंद पर बोल्ड हो गए। उन्होंने 120 गेंद में आठ चौकों और एक छक्के की मदद से 72 रन बनाए।
    
कप्तान धौनी (10) को चार के स्कोर पर स्लिप में जीवनदान मिला। वह हालांकि इसका फायदा नहीं उठा सके और नील वेगनेर की गेंद पर विकेट के पीछे बी जे वॉटलिंग को कैच देकर लौटे। वेगनेर ने इसके बाद बाकी पुछल्ले बल्लेबाजों को भी पवेलियन भेज दिया। उन्होंने 11 ओवर में 64 रन देकर चार विकेट लिए जबकि बोल्ट और साउदी को तीन-तीन विकेट मिले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत जीत से अभी भी 320 रन दूर