DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आजीवन सजा काट रहे 51 कैदियों को रिहा की अनुशंसा

आजीवन सजा काट रहे 51 कैदियों को रिहा की अनुशंसा

रांची। ब्यूरो प्रमुख। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शुक्रवार को विभिन्न जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदियों की रिहाई के लिए प्राप्त आवेदनों पर विचार किया। प्रोजेक्ट भवन में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक हुई। बैठक में कुल 106 आवेदनों पर विचार किया गया, जिनमें से 51 आवेदनों पर रिहाई के लिए पर्षद ने अपनी अनुशंसा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राप्त आवेदनों पर राज्य सजा पुनरीक्षण पार्षद विचार कर सकती है, परंतु यह किसी आवेदक का अधिकार नहीं माना जा सकता है।

उन्होंने कहा कि रिहाई के लिए प्राप्त आवेदनों पर विचार करते समय यह जांच आवश्यक है कि अपराधी की पृष्ठभूमि क्या है। इनके अपराध की प्रकृति क्या है। रिहाई के बाद अपराध की पुनरावृत्ति न हो। इस बात पर विचार आवश्यक है कि रिहाई के बाद इनके परिवार, इन्हें किस रूप में स्वीकार करेगा।

यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि समाज पर इनकी रिहाई का विपरीत प्रभाव न पड़े। बैठक मे मुख्य सचिव आरएस शर्मा, गृह सचिव एनएन पांडेय, सीआइडी के एडीजी एसएन प्रधान, आईजी कारा सहित कई अधिकारी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आजीवन सजा काट रहे 51 कैदियों को रिहा की अनुशंसा