DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बौद्ध महोत्सव से बोधगया को मिला पर्यटन का नया आयाम

बोधगया एक संवाददाता। सीरियल बम धमाके के बाद पहली बार तथागत की भूमि पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध महोत्सव से बोधगया में पर्यटन का नया आयाम मिलता दिख रहा है। इस बार के महोत्सव में 30 स्टॉल लगाये गये। खाने-पीने के काउंटर पर अच्छी भीड़ जुटी व दुकानदारों ने अच्छा व्यवसाय किया।

मधुबनी चित्रकला, ग्रामोद्योग आदि स्टॉलों पर दर्शक जुटे लेकिन बिक्री नहीं रही। सरकारी स्टॉल पर लोगों की उत्सुकता नहीं दिखी। समारोह में जुटे दर्शक नामी-गिरामी कलाकारों के नहीं रहने के बावजूद औसत दस हजार दर्शकों की भीड़ प्रतिदिन देखी गयी।

2009 और 2010 में महोत्सव के दौरान कुर्सियां खाली रह जाती थीं लेकिन इस बार दर्शक खड़े भी नजर आए। पहले दिन अंतर्राष्ट्रीय कलाकारों ने खूब तालियां बटोरीं। बिहार गौरव में भी दर्शकों की रूचि रही। विदेशी कलाकारों के आगमन से बौद्ध महोत्सव के अंतरराष्ट्रीय स्वरूप का विस्तार हो रहा है।

लाइव हुआ महोत्सवः बौद्ध महोत्सव पहली पर लाइव हुआ। सरकार की पहल पर इसका लाइव प्रसारण दूरदर्शन व वेवकास्ट पर हुआ। इससे महोत्सव के दर्शकों का दायरा और भी बढ़ गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बौद्ध महोत्सव से बोधगया को मिला पर्यटन का नया आयाम