DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरबजीत को मिला जीवनदान!

पाकिस्तान सरकार ने शनिवार को एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए देश की जेलों में बंद फांसी के सजायाफ्ता तमाम कैदियों की सजाएं उम्रकैद में बदलने का ऐलान किया है। सरकार की यह घोषणा भारतीय कैदी सरबजीत के लिए जिदंगी का पैगाम लाई है। हालांकि पाकिस्तानी संविधान के मुताबिक, सजा कम करने का अधिकार सिर्फ राष्ट्रपति को हासिल है और अंतिम फैसले के लिए मुशर्रफ की मुहर का इंतजार करना पड़ेगा। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की पूर्व अध्यक्ष मरहूम बेनजीर भुट्टो के 55वें जन्मदिन के मौके पर संसद में इस आशय की घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री युसूफ राा गिलानी ने बताया कि संबंधित मंत्रालय को निर्देश दिए गए हैं कि सरकार के फैसले की सिफारिश राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को ोज दें। समझा जाता है कि पाक सरकार के इस फैसले से कम से कम सौ कैदियों को जीवनदान मिलेगा। इनमें भारतीय कैदी सरबजीत भी है जिसे 10 के लाहौर और मुल्तान बम कांडों में कथित रूप से शामिल रहने के कारण फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है। उसकी रिहाई के लिए भारत सरकार के अलावा पाकिस्तान के जाने-माने मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी भी अथक प्रयास करते आए हैं। सरबजीत को एक अप्रैल को फांसी दी जानी थी लेकिन पाक सरकार ने इसे टाल दिया था। इस बीच सरबजीत का परिवार भी लाहौर जाकर जेल में उससे ोंट कर चुका है। परिवार वाले मानते हैं कि वह गलत पहचान का शिकार हुआ है। पाक प्रधानमंत्री के शनिवार के ऐलान से पंजाब स्थित भिखिविंड गांव में सरबजीत के परिवार में खुशियों की लहर दौड़ गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सरबजीत को मिला जीवनदान!