DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानलेवा न बन जाए मोटापा

जानलेवा न बन जाए मोटापा

मोटापा एक मेडिकल कंडीशन है, जिसमें शरीर पर वसा की परतें इतनी मात्रा में जमा हो जाती हैं कि वह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो जाती हैं। इसकी वजह से बहुत सी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। कैसे जीवनशैली में बदलाव कर खुद को रखें फिट, बता रही हैं शमीम खान

खानपान की गलत आदतें, जीवनशैली में बदलाव और शारीरिक सक्रियता की कमी के कारण यह समस्या लगातार गंभीर हो रही है।

मोटापे के साइड इफेक्ट
मोटापा अपने आपमें कोई रोग नहीं है, लेकिन कई रोगों की जड़ है। जिन लोगों का वजन ज्यादा होता है, उन्हें चलने, सांस लेने और बैठने में परेशानी होती है। मोटापे से दूर रह कर डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारियों और जोड़ों के दर्द जैसी कई बीमारियों से बचा जा सकता है।

शरीर में वसा की मात्रा अधिक होने पर सोडियम इकट्ठा हो जाता है, इससे रक्त का दाब बढ़ जाता है। यह दिल के लिए काफी नुकसानदेह होता है
मोटापा टाइप टू डायबिटीज की मुख्य वजह है। वसा की मात्रा अधिक होने पर शरीर इंसुलिन के प्रति रजिस्टेंट हो जाता है।
अधिक भार से आर्थराइटिस की समस्या हो जाती है, क्योंकि जोड़ों पर अधिक भार पड़ता है। इससे कार्टिलेज की मात्रा कम हो जाती है।
ब्रेन स्ट्रोक और कार्डिएक अरेस्ट की आशंका बढ़ जाती है।

मोटापे के कारण
शारीरिक सक्रियता और एक्सरसाइज की कमी।
आनुवंशिक कारक और हार्मोन असंतुलन।
अत्यधिक मानसिक तनाव और अनिद्रा। 
नियमित रूप से एंटीडिप्रेसेंट दवाएं लेना।
जंक फूड, ऑयली फूड, चॉकलेट, कोल्ड ड्रिंक्स, मेदे से बनी हुई चीजों का सेवन।
भोजन करने के तुरंत बाद सो जाना।

कितना घातक है मोटापा
सामान्य से अधिक भार होना और मोटापा विश्वभर में मृत्यु के सबसे प्रमुख चार कारणों में से एक है। विश्वभर में करीब 30 लाख लोग मोटापे के कारण मरते हैं। इसके अलावा मोटापे के कारण डायबिटीज की आशंका 44 प्रतिशत, हृदय रोगों की आशंका 23 प्रतिशत और कैंसर की आशंका 7 प्रतिशत बढ़ जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मोटापे को स्वास्थ्य के लिए सर्वाधिक दस खतरों में शामिल किया है। मोटापे के कारण बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, हृदय रोग और कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर में से किसी एक बीमारी के होने का खतरा 60 प्रतिशत तक और कोई दो बीमारी का खतरा 20 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। आधुनिक शोधों में यह बात सामने आई है कि मोटापे से 53 तरह की बीमारियां हो सकती हैं। केट स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने मोटापा और स्मरणशक्ति के बीच संबंध पर शोध किया। इसमें यह बात सामने आई कि शरीर में चर्बी बढ़ने से दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। इससे दिमाग की कार्यशैली को भी नुकसान पहुंचता है और स्मरणशक्ति भी कमजोर होती है।

कैसे रखें वजन को नियंत्रित
अपने भोजन में फाइबर की मात्रा बढ़ा दें।
सरल कपालभाति एवं भस्त्रिका आसन करें। इससे पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है और वसा कम होती है।
ऐसी चीजें जिसमें स्टार्च हो, जैसे आलू, मटर का सेवन कम करें।
दिन के पहले हिस्से में ही फल खाएं।
खाली पेट कतई न रहें। हर तीन या चार घंटे में कुछ खाएं। ओट, बाजरा, गेहूं को अपनी खुराक में शामिल करें।
एक दिन में लगभग छह सौ ग्राम हरी सब्जियां खाने की कोशिश करें।

कैसे घटाएं बढ़ा वजन
खाली पेट कतई न रहें। हर तीन या साढ़े तीन घंटे में भोजन करें। अनाज अधिक मात्रा में खाएं। कोशिश करें कि ओट, बाजरा, गेहूं आपकी खुराक में शामिल हों। हरी सब्जियां जैसे पालक, मेथी और सरसों खूब खाएं। एक दिन में 600 ग्राम हरी सब्जियां खाने की कोशिश करें। जितनी बार भोजन करें उतनी बार आपकी थाली में एक ऐसा पकवान जरूर हो, जिसमें प्रोटीन पाया जाता हो। पेट और कमर की चर्बी को कम करने के लिए पवनमुक्तासन, जानुशिरासन, पश्चिमोतानासन, मण्डूकासन, उष्ट्रासन, धनुरासन, भुजंगासन, उतानपादासन, नौकासन तथा शशांकासन आसन करें।

खान-पान में थोड़ी सी सावधानियां बरत कर जल्दी ही बढ़े हुए वजन से निजात पा सकते हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े
10 प्रतिशत आबादी मोटापे की शिकार है। यह आंकड़े विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जारी किए। एक सर्वे के अनुसार पिछले तीस वर्षों में मोटे लोगों की संख्या दुगनी हो गई है।
20 वर्ष और उससे अधिक उम्र के 35 प्रतिशत वयस्कों का भार औसत से अधिक है और 11 प्रतिशत मोटे हैं।
2011 में पांच साल से कम उम्र के 4 करोड़ बच्चों का भार सामान्य से अधिक था।

हेल्दी डाइट
अक्सर हेल्दी डाइट की बात तो की जाती है लेकिन ज्यादातर लोग नहीं जानते कि यह होती क्या है। ऐसी डाइट हेल्दी डाइट कहलाती है जिसमें- 
फल, सब्जियां, साबुत अनाज और कम वसा वाला दूध व दुग्ध उत्पाद।
मांस, चिकन, अंडे, मछलियां, मेवे और फलियां।
सेचुरेटेड फैट, ट्रांस फैट, कोलेस्ट्रॉल, सोडियम और शूगर कम से कम।
अपनी शरीर के जरूरत के हिसाब से कैलोरी- एक औसत युवा पुरुष के लिए 2200-2500 ग्राम कैलोरी और महिला के लिए 1800-2200 ग्राम कैलोरी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जानलेवा न बन जाए मोटापा