DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज तक नहीं मिला कई छात्रों को लैपटॉप

पडरौना। निज संवाददाता। प्रदेश सरकार की बहु प्रचारित लैपटॉप वितरण योजना का लाभ पाने से वंचित कई छात्र-छात्रा अभी भी कॉलेज से लगायत कलेक्ट्रेट तक चक्कर काट रहे हैं। ऐसे ही 9 नौजवानों ने मुख्यमंत्री कार्यालय तक गुहार लगाई है। गुरुवार को ये छात्र-छात्रा डीआईओएस कार्यालय गए और अपनी पीड़ा सुनाई। शहर के उदित नारायण पीजी कालेज की कुमारी माया सिंह, ज्योति चौधरी, शीलसागर डिग्री कालेज हिरनही किन्नरपट्टी की प्रियरंजन कुमार मद्धेशिया, रामसुभग प्रजापति, सुनील कुमार गौड़, मनोज यादव, संदीप यादव तथा विद्यार्थी स्नातकोत्तर महाविद्यालय जगदीशपुर बरडीहा रामदुलार गुप्ता की मानें तो वे लोग अपने-अपने कॉलेज में स्नातक प्रथम वर्ष के संस्थागत छात्र हैं।

लैपटॉप वितरण के लिए कॉलेज में जो सूची बनी थी उसमें उनका भी नाम था। इस सूची के आधार पर उन्हें लैपटॉप चलाने के लिए प्रशिक्षण भी दिया गया। परन्तु वितरण के दिन लैपटॉप कम होने की बात कहकर उन्हें बाहर कर दिया गया। तभी से वे लोग कॉलेज, डीआईओएस कार्यालय और डीएम कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं। एक बार वे इंटरनेट के जरिए मुख्यमंत्री कार्यालय को भी अपनी शिकायत दर्ज करा चुके हैं। परन्तु समस्या का समाधान नहीं निकला।

गुरुवार को फिर इन छात्र-छात्राओं ने डीआईओएस से मिलकर अपनी बात कही और लैपटॉप दिलाने की मांग की। कोट-लैपटॉप वितरण के लिए शासन से जो गाइड लाइन आई थी उसके मुताबिक उसी वर्ष इण्टरमीडिएट या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण कर स्नातक प्रथम वर्ष में नियमित छात्र के तौर पर प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्रा पात्र थे। कॉलेजों ने इस गाइड लाइन से इतर भी कुछ नाम लिस्ट में शामिल कराते हुए प्रशिक्षण कराया था। मामला संज्ञान में आने के बाद ऐसे छात्रों को लैपटॉप नहीं दिया गया था।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आज तक नहीं मिला कई छात्रों को लैपटॉप