DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेगूसराय एपीपी हत्याकांड में तीन दोषी करार

हिन्दुस्तान प्रतिनिधि पटना। बहुचर्चित एपीपी रामनरेश शर्मा की गोली मारकर हत्या करने के जुर्म में अदालत ने तीन आरोपित चन्दन कुमार सिंह,मुकेश कुमार सिंह और अमरनाथ चौधरी उर्फ लूटन चौधरी को दोषी करार दिया है। वही दूसरी ओर अदालत ने तीन अन्य आरोपित नंदन कुमार सिंह, अनिल कुमार महतो और रामचन्द्र ठाकुर के खिलाफ कोई साक्ष्य नही पाते हुए इस हत्याकांड से बरी कर दिया।

पटना के जिला एवं सत्र न्यायाधीश अरुण कुमार ने गुरुवार को यह फैसला सुनाया। अदालत ने दोषी पाए तीनों आरोपितों को सजा देने के बिंदु पर सुनवाई के लिए 12 फरवरी की अगली तिथि निर्धारित की है। पटना हाईकोर्ट के आदेश पर इस हत्याकांड के आरोपितों का ट्रायल पटना सिविल कोर्ट में हुआ था। इस कांड के छह आरोपितों का ट्रायल वर्ष 2010 से पटना की अदालत में चल रहा था। इस हत्याकांड मामले में पुलिस पूर्व सांसद सूरजभान सिंह के खिलाफ चार्जशीट कर चुकी है।

जो बेगूसराय सिविल कोर्ट में लंबित है। एपीपी शर्मा हत्याकांड बेगूसराय सिविल कोर्ट के अपर लोक अभियोजक रामनरेश शर्मा को अपराधियों ने 8 नवंबर 2007 को उनके घर में घुस कर गोली मार कर हत्या कर दी थी। मृतक एपीपी शर्मा पोखरिया मुहल्ले में रौशन सिंह के मकान में किरायेदार थे। बाहुबली पूर्व सांसद और लोजपा नेता सूरजभान सिंह के खिलाफ कोर्ट में सरकार की ओर से मृतक शर्मा एपीपी की हैसियत से मुकदमा लड़ रहे थे। बेगूसराय सिविल कोर्ट में पूर्व सांसद सूरजभान सिंह के खिलाफ कुल छह सेशन ट्रायल चल रहा था।

इन सभी ट्रायल में रामनरेश शर्मा अपर लोक अभियोजक थे और उनके विरुद्ध मुकदमा लड़ रहे थे। पूर्व सांसद सूरजभान सिंह के खिलाफ मुकदमा लड़ने के कारण ही अपर लोक अभियोजक शर्मा को गोली मारकर हत्या की गयी है। उनको सूरजभान सिंह के खिलाफ सरकार की ओर से पैरवी नही करने और मुकदमा छोड़ने के लिए धमकी मिल रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेगूसराय एपीपी हत्याकांड में तीन दोषी करार