DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैग के लिए तलाशी जा रहीं पुरानी फाइलें

ज्ञानपुर। निज संवाददाता। नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की टीम ने लगातार दूसरे दिन गुरुवार को भी सम्पूर्ण स्वच्छता व निर्मल भारत अभियान के दौरान बने शौचालयों की फाइलों की छानबीन की। इस दौरान अभियान से जुड़ी कुछ पुरानी फाइलों के न मिलने की बात भी सामने आयी है। इसे लेकर हड़कम्प मचा हुआ है।

सम्पूर्ण स्वच्छता व निर्मल भारत अभियान के दौरान बने शौचालयों की हकीकत जांचने पहुंची एमपी श्रीवास्तव के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम में शामिल अधिकारियों ने जिला पंचायतराज कार्यालय में दूसरे दिन भी फाइलों की गहन पड़ताल की। कैग की नजर में सूबे के तीन मॉडल जिलों में भदोही के साथ ही हाथरस व पीलीभीत में भी जांच की जानी है। भदोही में दूसरे दिन की छानबीन के दौरान सबसे अहम बात इस रूप में सामने आयी कि वर्ष 2002-03 के दौरान की कुछ फाइलें नहीं मिल रही हैं।

इसे लेकर विभाग में खलबली मची रही। इस बीच टीम वर्ष 2009 से 2013 के दौरान बने शौचालयों के अभिलेख पर गौर करती रही। साथ ही खामियों को सूची बद्ध करने का सिलसिला सुबह से शुरू होकर देरशाम तक चला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैग के लिए तलाशी जा रहीं पुरानी फाइलें