DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आडवाणी-मनमोहन मिले, पर रहे दूर-दूर

चुनाव की तल्खियां मंगलवार को उस समय राजनीतिक शिष्टताओं पर हावी होती दिखीं, जब लोस में विपक्ष के नेता लालकृष्ण आडवाणी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को हाथ जोड॥कर प्रणाम किया लेकिन वह उन्हें नजर भर कर देखे बिना ही मुंह फेर कर चल दिये।ड्ढr कल तक एक-दूसरे पर तीखे शब्द बाण चला रहे दोनों नेताओं का मंगलवार को काफी अर्से बाद संसद परिसर में संविधान निर्माता डॉ भीमराव आंबेडकर के जन्म दिवस के मौके पर आमना-सामना हुआ, तो उनके व्यवहार की खटास भी खुलकर सामने आ गयी। लगा कि राजनीतिक बयान निजी स्तर पर दिल की गहराई में कड़वाहट बनकर उतर रहे हैं।ड्ढr आडवाणी ने प्रधानमंत्री की ओर हाथ जोड॥कर प्रणाम किया लेकिन डॉ सिंह मुंह फेरकर चल दिये। आडवाणी के हाथ जुड़े के जुड़े रह गये। झेंप में प्रणाम की मुद्रा में देर तक रहे आडवाणी के हाथ राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के काम आ गये जो प्रधानमंत्री के ठीक पीछे चल रहीं थीं। यह वाकया ऐसे समय हुआ है जब कांग्रेस के पूरे नेतृत्व ने आडवाणी की लौह पुरुष और मजबूत नेता की छवि पर हल्ला बोला था । (एजेंसी)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आडवाणी-मनमोहन मिले, पर रहे दूर-दूर