DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मंत्री को बताया वैट का साइड इफैक्ट

रांची। वरीय संवाददाता। रांची मोटर डीलर एसोसिएशन ने वित्त मंत्री राजेंद्र सिंह को राज्य में वैट की दर का साइड इफैक्ट बताया। अध्यक्ष जतिंद्रपाल सिंह और संयोजक आरडी सिंह ने इस संबंध में उन्हें पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने कहा है कि जमशेदपुर का आदित्यपुर ऑटोमोबाइल सेक्टर के स्पेयरपार्ट्स निर्माण का औद्योगिक क्षेत्र है। यहां करीब ढाई हजार कंपनियां हैं। इसमें प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से 30 हजार मजदूर काम करते हैं। पड़ोसी राज्य बिहार और बंगाल में मोटर पार्टस पर वैट पांच प्रतिशत लग रहा है।

झारखंड में यह 10 प्रतिशत है। इसके कारण गाडिम्यां बनाने वाली टाटा कंपनी यहां से स्पेयर पार्ट्स खरीदने से परहेज करती है। नतीजतन, जमशेदपुर की मध्यम श्रेणी की कंपनियों को काम मिलना बंद हो गया है। उसमें कार्यरत मजदूर और उनके परिवार के समक्ष भूखमरी की समस्या आन पड़ी है। हालात यही रहे तो जमशेदपुर वीरान शहर में बदल जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2009 में झारखंड में वैट की दर चार प्रतिशत थी। राज्य अलग होने के बाद से अब तक सबसे अधिक टैक्स वर्ष 2008-09 में ही मिला था।

इसके मद्देनजर उन्होंने वैट की दर पड़ोसी राज्यों की तरह पांच फीसदी किए जाने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मंत्री को बताया वैट का साइड इफैक्ट