DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छाता में पुरानी तहसील बना डलाब घर

 छाता। हिन्दुस्तान संवाद।  कस्वा के शेरशाह सूरी किला स्थित जिसमें कि कभी क्षेत्र का तहसील मुख्यालय हुआ करता था जिसमें कोतवाली, बैंक, पोस्ट ऑफिस, गैर सरकारी, सरकारी कार्यालयों में क्षेत्र के तथा इलाके की जनसभाएं होती थीं। जिसे आज पुरानी तहसील के नाम से जाना जाता है, जैसा कि तहसील मुख्यालय व कोतवाली राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थानांतरित हो चुके हैं लेकिन इसके अन्दर डाकघर, बैंक कार्यालय आदि आज भी स्थित हैं।

जिसमें एक बहुत ही सुन्दर पार्क भी बना हुआ है जिसे भगत सिंह पार्क के नाम से जाना जाता है। जिसमें नगर के लोग सुबह शाम भ्रमण करने के उदेश्य से आते जाते रहते हैं व छोटे छोटे बच्चों का नगर में खेलने का एक मात्र स्थान है। लेकिन उसके बाबजूद नगर पंचायत के सफाई कर्मचारियों द्वारा पार्क में एवं पुरानी तहसील व पुरानी कोतवाली के खाली स्थानों पर कस्वे के अन्य जगहों से सफाई कर उठायी गयी गन्द्गी को दूर ले जाने की बजाय प्रतिदिन उसी स्थान के ईद गिर्द डाल दिया जाता है।

नगर पंचायत के कर्मचारी भी गलियों की सफाई व घरों की सफाई कर सारा कूड़ा इकट्ठा कर पार्क के पास पुरानी कोतवाली के सामने डाल देते हैं। जिससे वहॉ पर गन्द्गी का अम्वार लगा हुआ है। ऐसी स्थिति में वह स्थान ऐसा प्रतीत होता है कि यह नगर पंचायत का डलाब घर है। वहां पर होने वाली गन्द्गी से समीप के भगतसिंह पार्क मे आने जाने वाले लोगों और छोटे छोटे खेलने वाले बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पुरानी तहसील के अन्दर बसी प्राचीन कालौनी जिसमें सैकड़ो परिवार नविास करते हैं तथा सुबह शाम इस पार्क में घूमने वाले लोगों का आना जाना लगा रहता है। डलाब घर बनने से होने वाली गन्द्गी से मच्छर एवं संकम्रण से बीमारियों का खतरा बना हुआ है। जिससे समस्या और गम्भीर होने के कगार पर होने को है। इसके बाबजूद नगर पंचायत के अधिषाशी अधिकारी व कर्मचारी कोई भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। पुरानी तहसील के लोगों ने एवं कस्वे के वरिष्ठ नागरिकों ने नगर पंचायत अधिकारी, उपजिलाधिकारी अजंनी कुमार से शीघ्र ही वहां पर बने हुए डलाबघर हटवाने की मॉग की है।

मांग करने वालों मे पूर्व चेयरमैन ठा. राजपाल सिंह, चन्द्रप्रकाश उर्फ बॉबी भईया ,पूर्व सभासद बीरी सिंह, सौदान सिंह, आत्मज्ञानी, ठा. चरन सिंह जादौन, सुरेश डाक्टर, रतन कुमार गुप्ता, ठा. रामहेत सिंह, रामकशिन, छाता बार के सचवि रामकृष्ण शर्मा, मनीष, शोएव, ठा. रामबीर सिंह, चेतन वघेल, बन्टी, सौरभ वाष्र्णेय, डौली गुप्ता, ठा. रामबीर सिंह आदि प्रमुख हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छाता में पुरानी तहसील बना डलाब घर