DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नजीबाबाद स्टेशन को उड़ाने की धमकी

नजीबाबाद स्टेशन को उड़ाने की धमकी

 नजीबाबाद (बिजनौर)। हमारे संवाददाता।  नजीबाबाद रेलवे स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी दी गई। स्टेशन अधीक्षक को भेजे गए पत्र में 10 फरवरी को ब्लॉस्ट करने की बात कही गई है। स्टेशन के साथ नगर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों और इसके बाद बिजनौर-मुरादाबाद में भी धमाके करने की धमकी दी गई है।

बुधवार अपराह्न एक बजे नजीबाबाद के स्टेशन मास्टर संदीप कुमार को डाक से एक अखबार मिला। अखबार के बीच लिफाफे में पत्र खोलते ही उनके होश उड़ गए। पत्र में रेलवे स्टेशन नजीबाबाद और नगर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई। पत्र लिखने वाले वाले ने अपना नाम मुस्तकीम आतंकवादी निवासी ग्राम नंगला मंदौड़ जिला मुजफ्फरनगर लिखा है। स्टेशन अधीक्षक अजीत सिंह के अनुसार विभाग के रेलवे के उच्च अधिकारियों के साथ प्रशासन को भी अवगत करा दिया गया है।

पत्र की प्रतिलिपि भी अधिकारियों को भेजी गई है।

--------- यह है पत्र का मजमून..सपा सरकार मुस्लिमों के विरोध में काम कर रही है। मुजफ्फरनगर दंगों के बाद भूख से तड़पते परिवारों की सहायता नहीं की गई। विस्फोट के लिए 26 जनवरी का दिन तय किया था, लेकिन जिन तीन लोगों को इसे अंजाम देना था, उनमें एक की तबीयत बिगड़ गई। अब रेलवे स्टेशन सहित नगर के कान्हा होटल, भारत वैंक्वेट हॉल और वालिया होटल निशाने पर हैं। बम विस्फोट दस फरवरी को रात आठ से बारह बजे के बीच होगा।

------------ हरकत में आया प्रशासन

धमकी भरा पत्र मिलने के बाद रेलवे अधिकारी सक्रिय हो गए। आनन फानन स्टेशन अधीक्षक ने जीआरपी व आरपीएफ प्रभारी को सूचित किया। उसके बाद रेलवे मुख्यालय को फैक्स भेजकर धमकी भरे पत्र की सूचना दी गई। रेलवे स्टेशन पर सभी लोगों को सतर्क रहने के दिशा निर्देश दिए गए हैं।

---------------पत्र भेजने वाला हो सकता है उम्र दराजपत्र में लिखे वविरण में ‘अ’ और ‘ण’ शब्द को इस प्रकार से लिखा गया है कि लिखने वाला व्यक्ति अधेड़ उम्र का होना चाहिए।

क्योकि वर्णमाला में लिखे जाने वाले इन अक्षरों को वर्तमान में प्रयोग नहीं किए जाते। क्या बोले अधिकारीआरपीएफ प्रभारी नारायण सिंह ने बताया कि पत्र के बारे में आलाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। जीआरपी प्रभारी विकास कुमार ने बताया कि स्टेशन अधीक्षक अजीत सिंह ने पत्र के बारे में सूचित किया है। पत्र की प्रतिलिपि मुख्यालय को भेज दी गई है। आवश्यक सतर्कता बरतने के लिए स्टाफ को निर्देश दिए गए हैं।

इसके अलावा भी मुख्यालय से अतिरिक्त फोर्स मांग ली गई है।

-कई हो चुकी धमकी, पर पुलिस की जांच सिफर 

 नजीबाबाद रेलवे स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी दिये जाने से जनपदवासी एक बार फिर दहशत में आ गए। जनपद में कई एक बार फिर धमकी भरा पत्र मिलने के बाद पुलिस और खुफिया विभाग की करनी-कथनी पर सवाल उठ गया कि पहले जिन अपराधियों ने धमकी दी, उनकी जांच आगे नहीं बढ़ पाई। लोगों का मानना है कि अगर पूर्व की जांच पूरी हो जाती तो नई धमकी शायद नहीं मिलती।

इससे पहले चार जून 2012 को हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक के नाम मिले एक पत्र में 20 जून को नजीबाबाद रेलवे स्टेशन को उड़ाने की धमकी मिली थी। पत्र में आंतकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के एरिया कंमाडर करीम अंसारी का नाम था। इससे पहले नबवंर 08 में लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर के नाम से नजीबाबाद रेलवे स्टेशन अधीक्षक को एक खत मिला था, जिसमे रेलवे स्टेशन को उड़ाने की धमकी दी गई थी। इतना ही नहीं जून 08 में नजीबाबाद स्थित तेल डिपो को भी उड़ाने को धमकी भरा खत भेजा गया था।

जिस डिपो को उड़ाने की बात कही थी, अगर उसमे विस्फोट हो जाता, तो बिजनौर को शायद ही कोई बर्बाद होने से नहीं बचा पाता।

------- आतंकियों के लिये माने जाते सॉफ्ट टारगेटबिजनौर। यह बात अलग है कि कभी यहां पर किसी वारदात को अंजाम नहीं दिया गया। लेकिन आतंकियों की नजर जनपद के कई सॉफ्टटारगेट पर बतलाई जाती है। पुलिस व खुफिया विभाग की नजर में शहर कोतवाली स्थित मेरठ मार्ग पर गंगा बैराज पुल, थाना मण्डावर अंतर्गत गंगा नदी पर बना बालावाली पुल, जनपद सीमा पर स्थित कालागढ़ डैम, नजीबाबाद में पेट्रोलियम डिपो, रेडियो स्टेशन, थाना शेरकोट में रामगंगा का पुल, नगीना में सुखरो डैम के अलावा दर्जनों सिनेमाघर, शापिंग माल व भीड़भाड़ वाले बाजार एवं धार्मिक स्थल आतंकवादियों के लिये साफ्ट टारगेट बन सकते हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नजीबाबाद स्टेशन को उड़ाने की धमकी