DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संसद के भीतर 11 दलों ने बनाया तीसरा मोर्चा

तीसरे मोर्चे के गठन की एक और पहल हुई है। 11 राजनीतिक दलों ने बुधवार को संसद के भीतर एक अलग गुट बनाने का ऐलान किया है। अभी यह मोर्चा संसद के भीतर जनता से जुड़े मुद्दों को उठाने के लिए संघर्ष करेगा और संसद के बाहर की रणनीति सत्र खत्म होने के बाद तय करेगा।

नए गुट के बनने से संसद में सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इन दलों ने साफ कर दिया है कि वह बिना चर्चा के सरकार को बिल पारित नहीं करने देगा क्योंकि सरकार इससे चुनावी फायदा उठाना चाहती है। 11 दलों में चार वामदलों के अलावा सपा, जद (यू), बीजद, अन्नाद्रमुक, झारखंड विकास मोर्चा, जेडीएस तथा असम गण परिषद शामिल हैं। लोकसभा में इन दलों की मौजूदा ताकत 92 सीटों की है।

संसद भवन परिसर में बैठक के बाद इन दलों के नेताओं ने ऐलान किया है कि इस गुट का लक्ष्य जनहित, सांप्रदायिकता विरोधी और संघीय एजेंडा होगा। जदयू अध्यक्ष शरद यादव और माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि 30 अक्तूबर को इन दलों की दिल्ली में बैठक हुई थी। उसके बाद यह दूसरा कदम है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संसद के भीतर 11 दलों ने बनाया तीसरा मोर्चा