DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिले में नहीं रहेगी खाद की किल्लत

बदायूं। हिन्दुस्तान संवाद। किसानों को अब यूरिया खाद की किल्लत से जूझना नहीं पड़ेगा। इसके लिए प्रशासन ने पूरी तैयारियां कर ली हैं। मार्च माह के लिए यूरिया खाद का लक्ष्य भी तय कर लिया गया है। हालांकि की जनवरी माह मे लक्ष्य के सापेक्ष खाद की उपलब्धता कम रही। लेकिन मार्च में किसानों को इसके लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा।

यूरिया खाद की किल्लत से जुझ रहे किसानों को अब खाद की किल्लत नहीं होने दी जाएगी। इसके लिए कृषि विभाग पूरी तरह तैयार दिखाई दे रहा है। इस संबंध में जिला कृषि अधिकारी आरके सिंह ने बताया कि मार्च माह के लिए प्रशासन ने जिले के लिए यूरिया का लक्ष्य 73 हजार टन रखा गया है। जबकि माह जनवरी में यूरिया का लक्ष्य 59 हजार 312 टन था। जिसके सापेक्ष जिले को 52 हजार 578 टन खाद ही किसानों को मिल सकी।

जनवरी माह में इफको से जिले में किसानों के लिए सात हजार टन का लक्ष्य था। जिसके सापेक्ष डीएम सीपी त्रिपाठी के प्रयासों के बाद 12 हजार टन यूरिया खाद जिले के किसानों को मिली। मार्च माह में जो लक्ष्य मिला है उससे यूरिया की मुसीबत दूर होने की संभावना है। कहा कि किसान मोटे दाने की खाद का प्रयोग करें। मोटे दाने की खाद में 46 प्रतिशत नाइट्रोजन तत्व होता है। मोटा दाना होने कारण यह पौधे को देर तक प्राप्त होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जिले में नहीं रहेगी खाद की किल्लत