DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकपाल समिति में न्यायविद् पर भाजपा, कांग्रेस में ठनी

लोकपाल समिति में न्यायविद् पर भाजपा, कांग्रेस में ठनी

लोकपाल चयन समिति में एक न्यायविद् को नियुक्त करने के सरकार के कदम पर भाजपा और कांग्रेस में ठन गई। मुख्य विपक्षी पार्टी ने इस तरह के मुद्दे पर आम राय बनाने की मांग को लेकर दबाव बनाने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का रुख किया।

भाजपा ने कहा कि सरकार संसद की प्रवर समिति की सिफारिशों की भावना को अस्वीकार करने की कोशिश कर रही है, जबकि कांग्रेस ने कहा कि विपक्षी पार्टी लोकपाल के गठन की राह में अड़चन डालने के लिए अपने छिपे हुए एजेंडे को लेकर कुतर्क दे रही है।

समिति में उच्चतम न्यायालय के वकील पीपी राव की नियुक्ति का विरोध कर रही लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने मुखर्जी से मुलाकात की और उस तौर तरीके पर अपना विरोध दर्ज कराया जिसके तहत सरकार ने राव का नाम आगे बढ़ाया।

लोकपाल चयन समिति की सदस्य सुषमा को लगता है कि राव कांग्रेस के वफादार हैं और इस संस्था की तटस्थता सुनिश्चित करने के लिए उन्हें इसमें नहीं होना चाहिए। दरअसल, लोकपाल चयन समिति भ्रष्टाचार रोधी लोकपाल के सदस्यों को चुनेगी।

उन्होंने इस हफ्ते के शुरुआत में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा बुलाई गई चयन समिति की बैठक में पहली बार अपना विरोध दर्ज कराया था। भाजपा ने इस विवाद के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए आरोप लगाया कि लोकपाल नियुक्ति मुद्दे पर वह अपनी ड्यूटी में नाकाम रहे हैं। पार्टी ने कहा है कि यह संसदीय मंजूरी की भावना के खिलाफ है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लोकपाल समिति में न्यायविद् पर भाजपा, कांग्रेस में ठनी