DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीनिवासन ने भारत की बढ़ती ताकत का किया बचाव

श्रीनिवासन ने भारत की बढ़ती ताकत का किया बचाव

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की सिंगापुर में होने वाली अहम बैठक से ठीक पहले बीसीसीआई के प्रस्ताव का बचाव किया है।

सिंगापुर में होने वाली आईसीसी की बैठक में भारत, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के ढांचागत बदलाव के प्रस्ताव पर कोई निर्णय लिया जा सकता है। ऐसे में श्रीनिवासन के इस बयान को काफी अहम माना जा रहा है जिसमें उन्होंने कहा है कि यह प्रस्ताव विश्व के क्रिकेट को मजबूत करने के लिए महत्वपूर्ण है।

श्रीनिवासन ने साथ ही इस प्रस्ताव के पीछे बीसीसीआई को कमाई में अधिक हिस्सेदारी मिलने संबंध बयानों से भी इंकार किया। माना जा रहा है कि नये प्रस्ताव से भारतीय बोर्ड की कमाई 6.3 करोड़ डालर से बढकर 76.6 करोड़ डालर तक पहुंच जाएगी। बीसीसीआई अध्यक्ष ने कहा कि बेहतरीन व्यावसायिक ढांचे वाला मजबूत भारत दुनिया के क्रिकेट के लिए बहुत अच्छा है।
 
मेंबर पार्टिसिपेटिंग एग्रीमेंट (एमपीए) के बारे में पूछे जाने पर श्रीनिवासन ने कहा कि बीसीसीआई ने हमेशा ही इस करार का विरोध किया है और इसके लिए हमने उपयुक्त वजह भी बताई हैं जिस पर अन्य क्रिकेट बोर्डों ने भी अपनी सहमति जताई है। इस करार के तहत सभी टेस्ट राष्ट्रों के लिए एक दूसरे के साथ खेलना जरूरी होता है।

गौरतलब है कि नई ढांचागत व्यवस्था के तहत सभी टेस्ट क्रिकेट राष्ट्रों को दो टीयर में बांटा गया है और अपनी मजबूत वित्तीय स्थिति के दम पर भारत, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड अपर टायर में स्थायी सदस्य बन जाएंगे जबकि शीर्ष आठ के बाहर वाली टीमें टीयर टू की सदस्य होंगी। 

विश्व क्रिकेट का आका बनने की इच्छा में इस प्रस्ताव की पैरवी करने के संबंध में श्रीनिवासन ने कहा कि दस क्रिकेट देशों में से हम तीन देशों ने एक प्रस्ताव तैयार किया है और इससे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को ही फायदा पहुंचेगा।

बीसीसीआई अध्यक्ष ने साथ ही इस प्रस्ताव के जरिये आईसीसी में वीटो व्यवस्था लागू होने से भी इंकार किया। उन्होंने कहा कि नए प्रस्ताव के तहत कोई वीटो लागू नहीं होगा। तीन देशों के स्थायी सदस्य होने के बाद दो सीटों पर कोई भी अध्यक्ष बन सकता है। इसके अलावा सभी एसोसिएट देशों को भी इस प्रस्ताव से काफी फायदा पहुंचेगा तथा उन्हें भविष्य में कई देशों के साथ खेलने का मौका भी मिलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:श्रीनिवासन ने भारत की बढ़ती ताकत का किया बचाव