DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संसद में मिलकर काम करेंगी 11 गैरकांग्रेस, गैरभाजपा पार्टियां

संसद में मिलकर काम करेंगी 11 गैरकांग्रेस, गैरभाजपा पार्टियां

वाम दलों समेत 11 गैरकांग्रेस और गैरभाजपा राजनीतिक पार्टियों ने अगले आम चुनावों से पहले तीसरे मोर्चे के गठन की दिशा में पहला कदम उठाते हुए बुधवार को संसद में मिल कर काम करने का फैसला किया।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सीताराम येचुरी ने यहां इन दलों के सांसदों की बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि सभी 11 पार्टियां संसद के दोनों सदनों में एक मोर्चे के तौर पर काम करते हुए जनता से जुड़े मसलों को उठाएंगी।

येचुरी ने कहा कि ये सभी दल महंगाई, भ्रष्टाचार, साम्प्रदायिकता और जनता से जुड़े मसलों पर संसद में चर्चा चाहते हैं। मगर सत्तारूढ़ कांग्रेस के सदस्य ही सदन की कार्यवाही को बाधित कर इन मुद्दों पर बहस नहीं होने दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि गैरकांग्रेस और गैरभाजपा दल पिछले पांच साल से भ्रष्टाचार का मामला लगातार उठाते रहे हैं। भ्रष्टाचार की रोकथाम से संबंधित विधेयकों को लेकर सरकार की हड़बड़ी को चुनावी फायदा उठाने की कोशिश करार देते हुए उन्होंने कहा कि सत्तरूढ़ पार्टी को ऐसा करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

बैठक में माकपा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, फारवर्ड व्लाक, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी, समाजवादी पार्टी, जनता दल यू, बीजू जनता दल, अन्नाद्रमुक, झारखंड विकास मोर्चा, जनता दल सेक्यूलर और असम गण परिषद के सांसदों में शिरकत की।

जनता दल यू के अध्यक्ष शरद यादव ने इस बैठक को तीसरे मोर्चे के गठन की दिशा में एक बड़ा कदम बताया। उन्होंने कहा कि इन दलों के बीच संसद में सहयोग के मुद्दों की घोषणा जल्दी ही कर दी जाएगी।

भाकपा के गुरुदास दासगुप्ता ने इसे एक नई शुरुआत बताते हुए कहा कि मोर्चे में शामिल सभी दल साम्प्रदायिकता. नवउदारवादी आर्थिक नीतियों तथा कांग्रेस और भाजपा की द्विध्रुवीय राजनीति का मिल कर मुकाबला करेंगे।

येचुरी ने कांग्रेस पर साम्प्रदायिकता का मुकाबला करने में अक्षम रहने का आरोप लगाया। तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर आशंकाओं पर उन्होंने कहा कि दुनिया आपसी भरोसे के बूते ही चलती है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संसद में मिलकर काम करेंगी 11 गैरकांग्रेस, गैरभाजपा पार्टियां