DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जदयू के विधायकों, सांसदों का दूसरे दलों की ओर रुख

जदयू के विधायकों, सांसदों का दूसरे दलों की ओर रुख

लोकसभा चुनाव की आहट के साथ ही बिहार में सत्तारुढ़ जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के कई विधायकों और सांसदों ने टिकट पाने की उम्मीद से दूसरे दलों की ओर रुख करना शुरू कर दिया है।

जदयू में व्यवस्था और पारदर्शिता को लेकर नाराज समाज कल्याण मंत्री परवीन अमानुल्लाह ने सोमवार को ही मंत्री, विधायक और पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। समझा जाता है कि अमानुल्लाह संभवत: भारतीय जनता पार्टी या आम आदमी पार्टी में जा सकती है। हालांकि उन्होंने अभी तक इसका खुलासा नहीं किया है कि वह किस पार्टी में जायेंगी।

कुछ दिन पूर्व ही राज्यसभा का उम्मीदवार नहीं बनाये जाने से नाराज होकर पार्टी के वरिष्ठ नेता और निवर्तमान राज्यसभा सदस्य शिवा नंद तिवारी ने पार्टी नेतृत्व पर निशाना साधते हुए पत्र लिखा था।

तिवारी ने अपने पत्र में मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता नीतीश कुमार को अहंकारी बताते हुए कहा था कि उनकी मर्जी के बगैर पार्टी के अंदर कोई कुछ नहीं कर सकता है।

तिवारी ने अपने पत्र में यह भी खुलासा किया था कि उनके कारण ही निवर्तमान राज्यसभा सदस्य एन.के. सिंह और साबिर अली को भी इस बार पार्टी ने राज्यसभा का उम्मीदवार नहीं बनाया है। हालांकि पार्टी ने इन तीनों को राज्यसभा का इस बार उम्मीदवार नहीं बनाये जाने के बदले में तिवारी को बक्‍सर, सिंह को बांका और अली को शिवहर से लोकसभा चुनाव लड़ने की पेशकश की थी।

पार्टी की इस पेशकश को तिवारी और सिंह ने ठुकरा दिया था। अली शिवहर से संभवत: इस बार जदयू की टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ सकते है।

जदयू से नाराज चल रहे झंझारपुर के सांसद मंगनी लाल मंडल ने भी पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बगावती तेवर अपनाये हुए है। मंडल पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद का गुणगान कर रहे है और उन्हे गरीबों और सामाजिक न्याय का मसीहा बता रहे है। यादव जब चारा घोटाले के मामले में पिछले दिनों रांची के होटवार जेल में बंद थें उस दौरान भी मंडल ने उनसे जेल में मुलाकात की थी। मंडल के राजद से इसबार चुनाव लड़ने की संभावना है।

इसी तरह गोपालगंज :सु: से जद यू के सांसद पूर्णमासी राम भी पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे हैं। हाल के दिनों में राम कई बार मुख्यमंत्री कुमार और उनकी सरकार के खिलाफ बगाबती तेवर दिखा चुके हैं। उन्होंने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के प्रति अपनी पूरी आस्था भी जतायी है। ऐसा समझा जा रहा है कि इस बार के चुनाव में राम भी राजद के  टिकट पर चुनाव मैदान में ताल ठोकते नजर आयेंगे।

वहीं औरंगाबाद से जदयू के सांसद सुशील कुमार सिंह भी पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे है। सिंह के भाजपा में जाने की अटकलें लगायी जा रही है।

मोहनिया :सु: से जदयू के विधायक छेदी पासवान भी पार्टी नेतृत्व के खिलाफ शुरू से ही बोलते रहे हैं। लोकसभा चुनाव की आहट के साथ ही पासवान का रुख और कड़ा हो गया है। कुछ माह पूर्व पासवान गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की थी और संभवत: वे भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ने को इच्छुक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जदयू के विधायकों, सांसदों का दूसरे दलों की ओर रुख