DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑकलैंड में टीम इंडिया की 'अग्निपरीक्षा'

ऑकलैंड में टीम इंडिया की 'अग्निपरीक्षा'

विदेशी जमीन पर लगातार दूसरी वनडे सीरीज़ गंवाने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम जब गुरुवार से यहां न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना पहला टेस्ट खेलने उतरेगी तो उसका एकमात्र लक्ष्य अपनी कमियों और आलोचनाओं को पीछे छोड़ते हुए जीत की पटरी पर लौटना होगा। 
        
भारत के लिए यह मुकाबला इस लिए भी अहम है कि यदि वह दो टेस्टों की इस सीरीज़ को जीत लेती है या फिर ड्रॉ कराने में सफल रहती है तो वह टेस्ट रैंकिंग में दूसरे नंबर पर बनी रहेगी। लेकिन यदि वह इस बार भी नाकाम होती है तो वनडे में नंबर वन का ताज गंवा चुकी टीम इंडिया टेस्ट में भी नंबर दो की अपनी कुर्सी गंवा बैठेगी।
        
एक ओर जहां टीम इंडिया वनडे सीरीज़ 0-4 से हारने के बाद मनोवैज्ञानिक रूप से भी दबाव में आ गई है तो दूसरी ओर मेजबान न्यूजीलैंड के हौंसले अब काफी मजबूत हुए हैं और उसने पहले ही टीम इंडिया को टेस्ट सीरीज में भी पछाड़ने की चेतावनी दे दी है।
       
हालांकि यदि टीम इंडिया के अभ्यास मैच में हालिया प्रदर्शन को देखा जाए तो कहा जा सकता है कि अधिकतर खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन में व्यापक सुधार कर कमियों से उभरने का प्रयास किया है। ऐसे में कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के सामने भी सर्वश्रेष्ठ एकादश को ही मैदान पर उतारने की जिम्मेदारी होगी ताकि इस बार उनकी योजना सफल हो पाये।

टीम इंडिया छह से 10 फरवरी तक चलने वाले पहले टेस्ट में मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, रोहित शर्मा, कप्तान धौनी, अंबाती रायुडू, अजिंकया रहाणे, रिद्धिमन साहा, युवा बल्लेबाज विराट कोहली और शिखर धवन जैसे बेहतरीन बल्लेबाजों के साथ मैदान पर उतरेगी। 
      
अभ्यास मैच में टीम के कमोबेश सभी बल्लेबाजों ने अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया है लेकिन विस्फोटक ओपन शिखर धवन का फिर से नाकाम हो जाना भारत की मुश्किलें बढ़ा सकता है। शिखर का वनडे सीरीज़ में भी प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था और अभ्यास मैच में उनका मात्र 26 रन पर पवेलियन लौट जाना चिंता का विषय है। 
     
हालांकि रविचंद्रन अश्विन ने एक बार फिर खुद को साबित किया है कि वह एक बेहतरीन ऑलराउंडर टीम इंडिया के लिए साबित हो सकते हैं। ऑफ स्पिनर अश्विन ने अभ्यास के दौरान न सिर्फ 45 रन पर दो विकेट हासिल किये बल्कि आठवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने 46 रनों की धुआंधार पारी भी खेली। ऐसे में साफ है कि निचले क्रम में भी टीम के पास कुछ ऐसे खिलाड़ी मौजूद हैं जो अहम मोड़ पर टीम के लिए मददगार साबित हो सकते हैं।
       
अश्विन के अलावा जहीर खान, ईश्वर पांडे, इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और उमेश यादव के रूप में टीम के पास कई बेहतरीन गेंदबाज मौजूद हैं जो न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को रनों का अंबार लगाने से रोक सकते हैं। वनडे सीरीज में सर्वाधिक विकेट लेने वाले शमी, अनुभवी तेज गेंदबाज जहीर और ऑफ स्पिनर अश्विन टीम के मुख्य गेंदबाज हैं जबकि तीसरे तेज गेंदबाज के लिए धौनी को इशांत और ईश्वर में से किसी एक का चुनाव करना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑकलैंड में टीम इंडिया की 'अग्निपरीक्षा'