DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनीतिक पार्टी का बंद, परेशान होगी रांची

रांची। संवाददाता। राजनीतिक पार्टियों ने बुधवार को झारखंड में चक्का जाम का ऐलान किया, लेकिन मंगलवार की देर शाम से लोगों में इसे लेकर बैचेनी देखने को मिली। रात होते-होते चिंता परवान चढ़ गई। लोग जहां तहां चक्का जाम को लेकर जानकारी जुटाने में लगे रहे।

कोई रांची से बाहर से आनेवाले संबंधियों को इसी जानकारी दे रहा था, तो कोई अखबार के दफ्तरों में फोन कर स्कूल बंद या खुला होने की जानकारी मांग रहा था। किसी की चिंता यह थी कि सड़क पर निकलने से पिछले दो बंद के दौरान हुई तोड़फोड़ जैसी घटना दोहराई तो नहीं जाएगी।

तोड़फोड़ नहीं कराएंगे मार्च : मोर्चा वहीं कुरमी विकास मोर्चा ने चक्का जाम को शांतिपूर्ण, लेकिन जोरदार बनाने की तैयारी की है। स्कूल-कॉलेज और शैक्षणिक संस्थानों से आग्रह किया गया है कि वह इसका समर्थन करें। हालांकि मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष शीतल ओहदार ने कहा कि चक्का जाम के दौरान किसी तरह का उत्पात नहीं होने दिया जाएगा। लोगों से गुजारशि की गई है कि वह घरों से न निकलें। जो लोग बाहर निकलेंगे उनकी गाड़ियों में तोडफोड़ नहीं होगी। न ही किसी तरह की मारपीट की जाएगी।

लेकिन उनकी गाड़ियों को सड़क के किनारे खड़ी करवाकर उन्हें बंद समर्थन में मार्च करवाया जाएगा। सड़क पर जो भी लोग आएंगे चक्का जाम के समर्थकों के साथ घुमाया जाएगा। ये रहेंगे जाम से मुक्तचक्का जाम के दौरान इमरजेंसी सेवा को पूरी तरह से मुक्त रखा गया है। निजी वाहन से भी हॉस्पिटल जानेवाले मरीजों को नहीं रोका जाएगा। रेलवे, प्रेस और दूध समेत आवश्यक सेवा से जुड़ेवाहनों को भी बंद से मुक्त रखा गया है। परीक्षार्थियों को भी नहीं रोका जाएगा।

बस उन्हें परीक्षा से संबंधित प्रवेश पत्र दिखाने होंगे। नेताओं ने दवा दुकानों को खुली रखने का ऐलान किया है। इनका मिल रहा समर्थनकुरमी विकास मोर्चा द्वारा आहूत चक्का जाम का लगभग सभी दलों का मौन समर्थन है।

लेकिन कुरमी अधिकार मोर्चा, आदिवासी कुरमी समाज, कुरमी महिला संघर्ष मोर्चा, पांच परगना कुरमी कल्याण कमेटी, पांच परगना छात्र संघ, झारखंड दिशोम पार्टी, कुरमी सेना, कुरमी मोर्चा ने सड़क पर उतरकर समर्थन देने की घोषणा की है। कुरमी संघर्ष मोर्चा के राजाराम महतो ने राज्य के मोटर वाहनों से अपील की है कि जाम को सफल बनाने में वह मोर्चा का समर्थन करें।

पुलिस ने भी पूरी की तैयारीः किसी तरह की अराजक स्थिति से निपटने के लिए रांची पुलिस ने पूरी तैयारी कर ली है। रांची के सभी प्रमुख चौक चौराहों पर तकरीबन 5 सौ अतिरिक्त महिला व पुरुष जवानों की तैनाती की गई है। एसएसपी भीमसेन टूटी ने बताया कि अलग से सभी प्रमुख रास्तं पर मोबाइल पुलिस टीम का गठन भी किया गया है। मोबाइल गश्ती टीम दो चौक के बीच मूवमेंट करेगी। इस दौरान जो लोग तोडफोड़ करेंगे तत्काल उनपर मोबाइल टीम कार्रवाई करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजनीतिक पार्टी का बंद, परेशान होगी रांची