DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलों के रख रखाव को अब ब्रिज इंजीनियर

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में पुलों के रख रखाव के लिए ब्रिज इंजीनियर का एक नया संवर्ग तैयार किया जाएगा। अभी रेलवे में इस तरह की व्यवस्था है। इस संबंध में उन्होंने पथ निर्माण विभाग को काम शुरू करने को कहा है।

मुख्यमंत्री सचविालय स्थित संवाद कक्ष में वीडियो कान्फ्रेंसिंग द्वारा सड़क और पुल निर्माण की 2,277 करोड़ की योजनाओं का कार्यारंभ व शिलान्यास कर रहे थे।

पुलों के रख रखाव को नया इंतजामः मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में पुलों के रख रखाव के लिए कोई कार्यप्रणाली ही नहीं है। ब्रिज इंजीनियर इस पर नजर रखेंगे। अगर पुलों का रख रखाव नहीं किया गया तो भारी वाहनों के दबाव में वह ध्वस्त हो जाएंगे। गांधी सेतु की हालत देख ही रहे हैं लोग।

पुलों के नियमित निरीक्षण का शिडय़ूल बनना चाहिए। बिहार में यह पहली बार होगा। इसके लिए डिवीजन या फिर सर्किल स्तर पर व्यवस्था की जानी चाहिए। समारोह में जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी, खाद्य आपूर्ति मंत्री श्याम रजक, सांसद ललन सिंह, महेश्वर हजारी, विधायक विजय कुमार मिश्र, अभिराम शर्मा, अरुण मांझी व पवन जायसवाल भी मौजूद थे। पथ निर्माण विभाग के सचवि प्रत्यय अमृत ने विभाग की योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया जबकि पुल निर्माण निगम के अध्यक्ष संजीव हंस ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

इन सड़कों व पुलों का कार्यारंभ व शिलान्यास हुआ कार्यारंभ--------बागी बरबीघा (एसएच-83)-37.64 किमी और लागत 170.32 करोड़-बरूना पुल -रसयारी (एसएच-88) 120.35 किमी और लागत 834.47 करोड़-सरैया-मोतीपुर (एसएच-86) 28.18 किमी और लागत 210.88 करोड़-रुन्नी सैदपुर-भिसवा (एसएच-87) 67.48 किमी और लागत 443.02 किमी-सीवान-सिसवन (एसएच89)33.06 किमी और लागत 167.96 किमी(उक्त सड़कें एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) की मदद से बन रही हैं)शिलान्यास----------छपरा जिले में दिघवारा-भेल्दी-अमनौर-तरैया-मानपुर से सेमरी बांध -19 किमी, लागत-56.01 करोड़-दरभंगा में कमतौल-जोगियारा पथ, 10.85 किमी, लागत-26.31 करोड़-आरा-बड़हरा-एकौना पथ, 14.85 किमी, लागत- 47.15 करोड़-दरभंगा में कुशेश्वर स्थान से फुलतौरा घाट, 22.40 किमी, लागत- 99.13 किमीकुल सोलह पुलों का शिलान्यास हुआकुल लागत 221.79 करोड़इन जिलों के लिए योजना - मुजफ्फरपुर, लखीसराय, दरभंगा, कटिहार, मधुबनी, पटना, बांका और पूर्वी चंपारण।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुलों के रख रखाव को अब ब्रिज इंजीनियर