DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकपाल पर सरकार और विपक्ष में टकराव

लोकपाल की नियुक्ति के पहले चरण में ही सरकार और विपक्ष के बीच टकराव सामने आ गया है। विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने चयन समिति के पांचवें सदस्य के लिए प्रख्यात न्यायविद पीपी राव के नाम का विरोध किया है। वहीं, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार व सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के प्रतिनिधि न्यायाधीश एचएल दत्तू ने समर्थन किया।

चयन समिति के पांचवें सदस्य के लिए सोमवार शाम हुई चार स्थायी सदस्यों की बैठक में राव को 3-1 के बहुमत से चुना गया। सुषमा ने राव के बजाए के. पारासरन के नाम पर जोर दिया था। चयन की प्रक्रिया से नाराज सुषमा स्वराज ने अब राष्ट्रपति से मुलाकात का समय मांगा है। सूत्रों के अनुसार, बैठक में समिति के पदेन अध्यक्ष प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सात नामों का पैनल रखा। इसमें प्रख्यात न्यायविद की श्रेणी में फाली एस. नरीमन, के. पारासरन, पीपी राव, प्रो. मोहन गोपाल और चंद्रशेखर पिल्लै के नाम शामिल थे।

बैठक में मनमोहन सिंह ने इनमें से पीपी राव का नाम प्रस्तावित किया। इस पर सुषमा ने आपत्ति जताई और कहा,बाकी सदस्यों से भी पूछ लें। इस पर लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार व मुख्य न्यायाधीश के प्रतिनिधि जस्टिस एचएल दत्तू ने भी राव का ही नाम लिया। इस पर सुषमा ने कहा कि राव के कांग्रेस से नजदीकी संबंध होने के चलते वह विरोध करती हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लोकपाल पर सरकार और विपक्ष में टकराव