DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

10 दिन बाद भी इलाहाबाद से लखनऊ नहीं पहुंची बस

 इलाहाबाद। वरिष्ठ संवाददाता।  रोडवेज की एक बस रोज इलाहाबाद से लखनऊ के लिए चलती है। यात्री सोचते हैं कि चार-पांच घंटों में वे राजधानी पहुंच जाएंगे। ड्राइवर कोशशि करता है कि बस मंजिल तक पहुंच जाए लेकिन बीते दस दिनों से यह बस लखनऊ नहीं पहुंच पा रही है। वसंत पंचमी पर लखनऊ तक पहुंचाने के लिए इस बस की मरम्मत की गई।

रोडवेज के अफसरों ने सोचा कि मरम्मत के बाद बस ठीक होगी और श्रद्धालुओं को लखनऊ पहुंचा देगी। दुर्भाग्य से बस ने फिर दगा दे दिया। मंगलवार सुबह साढ़े तीन दर्जन यात्रियों को लेकर बस प्रयाग डिपो से रवाना हुई और ऊंचाहार पहुंचकर खड़ी हो गई। इलाहाबाद से बस चली तो लगा कि माघ मेले के स्नान पर्व पर शायद लखनऊ पहुंच जाएंगे। कुंडा तक बस सही चल रही थी। कुंडा पार करते ही बस में गड़बड़ी के संकेत मिले।

किसी तरह ऊंचाहार पहुंची और फिर वहीं ठिठक गई। ऊंचाहर में चालक ने बस आगे ले जाने से हाथ खड़ा कर दिया। बस खराब हुई तो इसके यात्री भी परेशान हो गए। दर्जनों यात्रियों को बीच में बस छोड़नी पड़ी। ऊंचाहार में यात्रियों को घंटों वैकल्पिक बस के लिए इंतजार करना पड़ा। परेशान यात्री वैकल्पिक बस में चढ़े तो अंदर बैठने की जगह नहीं थी। अंतत: यात्रियों को खड़े होकर लखनऊ तक की यात्रा करनी पड़ी। बस में खराबी की जानकारी इसके चालक ने ही यात्रियों को दी।

चालक की बातें सुनकर कई यात्री रोडवेज प्रबंधन को भी कोसते रहे। 25 जनवरी से पूरी नहीं की यात्रा इलाहाबाद-लखनऊ के बीच चलने वाली यह बस (यूपी 32 सीजेड 3547) कई दिन से यात्रा पूरी नहीं कर पा रही थी। बताते हैं कि 25 जनवरी के बाद यह बस लखनऊ पहुंचने से पहले बीच रास्ते में लगातार खराब होती रही। फिर भी इससे यात्रियों को भेजा गया। चालक के मुताबिक मंगलवार दोपहर पंप खराब होने से बस का इंजन बंद हुआ।

मशीन है तो खराब होगी : एआरएम खटारा बस से रोडवेज यात्रा करा रहा है और जब इस बारे में अफसरों से पूछा जाता है तो उनका जवाब भी कुछ कम चौकाने वाला नहीं है। इलाहाबाद-लखनऊ की बस बीच रास्ते में खराब होने के सवाल पर प्रयाग डिपो के एआरएम एमएल कनौजिया ने कहा कि मशीन में कभी भी खराब हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10 दिन बाद भी इलाहाबाद से लखनऊ नहीं पहुंची बस