DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों को अब मिलेगी इंटर कालेजों की सौगात

फरुखाबाद। प्राइमरी व जूनियर स्कूलों के बाद अब छात्रों को गांव गांव हाईस्कूल व इंटर कालेजों की सोगात मिलेगी। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की ओर से प्रत्येक पांच किलोमीटर पर जूनियर स्कूलों को उच्चीकृत कर हाईस्कूल तक किया जाएगा। वहीं दस किलोमीटर की दूरी पर इंटर कालेज खोले जाएंगे। आगामी वित्तीय वर्ष में इन स्कूल कालेजों की स्थापना के लिए जनपद से प्रस्ताव मांगे गए हैं।

सबकुछ ठीक ठाक रहा तो जिले के छात्रों को अब इंटर तक की शिक्षा के लिए दूर दूर तक नहीं भटकना पड़ेगा। छात्रों को हाईस्कूल की पढ़ाई के लिए अपने घर से पांच किलोमीटर व इंटर तक की पढ़ाई के लिए दस किलोमीटर पर राजकीय इंटर कालेज उपलब्ध होंगे। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की ओर से जिले में बड़ी संख्या में हाईस्कूल व इंटर कालेजों की स्थापना की जाएगी। सर्वशिक्षा अभियान की ओर से प्रत्येक किलोमीटर पर प्राइमरी व तीन किलोमीटर की दूरी पर जूनियर स्कूलों की स्थापना के बाद अब यह कार्य तीर्व गति से होगा।

पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थापित जूनियर स्कूलों को उच्चीकृत करके हाईस्कूल बनाया जाएगा। वहीं इंटर कालेज नहीं होने की दशा में प्रत्येक दस किलोमीटर पर इंटर कालेज स्थापित किए जाएंगे। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान ने ऐसे स्कूलों की स्थापना के लिए जिले से प्रस्ताव मांगे हैं। साथ ही नवीन स्कूलों की स्थापना पर आने वाले व्यय के लिए वर्ष 2014-15 के लिए आवश्यक बजट का वार्षिक प्लान मांगा गया है। जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत पटेल ने बताया कि नवीन स्कूलों की स्थापना के लिए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी व खंड शिक्षा अधिकारियों की ओर से प्रस्ताव मांगे गए हैं।

साथ ही राजकीय व अनुदानित इंटर कालेजों के प्रधानाचार्यो की ओर से भी प्रस्ताव मांगे गए हैं। प्रस्ताव व सुझाव प्राप्त होने के बाद बजट प्रावधान को लेकर बैठक की जाएगी।

इनसेट------जनसंख्या के आधार पर देना होगा प्रस्ताव हाईस्कूल व इंटर कालेजों की स्थापना के लिए बेसिक शिक्षा विभाग के अफसरों को लाभांवित होने वाली जनसंख्या का भी ब्योरा देना होगा। डीआईओएस की ओर से मांगी गई सूचना में पांच किलोमीटर की दूरी पर उच्चीकृत होने वाले जूनियर स्कूलों के साथ ही उनकी छात्र संख्या, विद्यालय परिसर का क्षेत्रफल व अतिरिक्त निर्माण के लिए उपलब्ध भूमि का वविरण देना होगा।

इसके साथ ही ग्राम व ग्राम पंचायत की संख्या, क्षेत्र की अनुसूचित जाति व अल्प संख्यक जनसंख्या का ब्योरा देना होगा। वही लाभान्वित होने वाली बस्तियों का नाम सहित उल्लेख करना होगा।

इनसेट------पूर्व स्थापित स्कूलों से होगा दूरी का निर्धारण राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की ओर से स्थापित होने वाले नवीन उच्चीकृत हाईस्कूलों व इंटर कालेजों की दूरी पूर्व स्थापित राजकीय व अनुदानित स्कूलों से तय की जाएगी। यदि किसी क्षेत्र में पूर्व से हाईस्कूल व इंटर कालेज स्थापित हैं तो उससे पांच किलोमीटर की दूरी पर ही दूसरा हाईस्कूल बनेगा।

वहीं इंटर कालेज से दूसरे इंटर कालेज की दूरी 7-10 किलोमीटर की होगी।

इनसेट-----बाढग्रस्त क्षेत्रों के लिए अलग से प्रस्ताव राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान ने बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों के लिए अलग से प्रस्ताव मांगे हैं। इन क्षेत्रों में ऐसे स्थानों के प्रस्ताव मांगे गए हैं जहां बाढ़ का पानी नहीं पहुंचता हो ताकि शिक्षण कार्य प्रभावित नहीं हो। वहीं ऐसे जूनियर स्कूलों की संख्या का भी ब्योरा मांगा गया है। जहां बाढ़ के कारण शिक्षण कार्य प्रभावित होता है। साथ केजीबीवी छात्राओं के लिए स्कूल के निकट ही उच्चीकृत हो सकने वाले स्कूल का भी प्रस्ताव मांगा गया है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्रों को अब मिलेगी इंटर कालेजों की सौगात