DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीस करोड़ का बजट खा रहे कुत्ते और बंदर

नई दिल्ली, संजय कुशवाहा दिल्ली की नगर निगमों के बजट का बीस करोड़ से ज्यादा रुपये आवारा कुत्ते और बंदर खा रहे हैं। इन जानवरों को पकड़ने, जंगल में वापस भेजने या बंध्याकरण करने पर तीनों निगमों को अच्छी खासी रकम खर्च करनी पड़ रही है। आवारा पशुओं पर खर्च होने वाली रकम कई क्षेत्रों में सड़कों के रख-रखाव, स्ट्रीट लाइट या महिला सार्वजनिक शौचालयों पर होने वाले खर्च के बराबर बैठती है। आवारा कुत्ते दिल्ली के ज्यादातर हिस्से में लोगों की परेशानी का कारण बने हुए हैं।

कुत्तों के काटने के चलते लोगों को रेबीज के इंजेक्शन लगवाने पड़ते हैं। जबकि, कुत्तों से बचने के लिए अक्सर ही लोग हादसों का शिकार हो जाते हैं। पिछले साल 8783 से ज्यादा लोग कुत्ते के काटने का शिकार बने। इसमें सबसे उत्तरी दिल्ली में सबसे ज्यादा 4388 लोग, दक्षिणी दिल्ली में 2695 और पूर्वी दिल्ली में 1700 से ज्यादा लोग कुत्ते के काटने का शिकार बने।

-----------------रेबीज से हुई मौतें

वर्ष----------मौतें

2012------54

2013------59

2014 (अब तक)----03-------------------

आवारा कुत्तों और बंदरों पर हो रहा खर्च दक्षिणी दिल्ली::::--2.54 करोड़ रुपये आवारा कुत्तों की रोकथाम पर खर्च का प्रावधान--60 लाख रुपये बंदरों की धर-पकड़ पर खर्च करने का प्रावधान--10.43 करोड़ रुपये आवारा पशुओं पर लगाम के लिए खर्च का प्रावधान

--------------------------उत्तरी दिल्ली:::--2.50 करोड़ रुपये कुत्तों के बंध्याकरण पर खर्च--4.00 करोड़ रुपये के खर्च से बनेगी कुकुरशाला

--------------------------------पूर्वी दिल्ली:::--24 लाख रुपये कुत्तों के बंध्याकरण पर खर्च --12 लाख रुपये बंदरों पर रोकथाम के लिए खर्च

-----------------------------------बंदर पकड़ने का खर्च बढ़ायापूर्वी दिल्ली नगर निगम बंदरों को पकड़ने में आने वाले खर्च में इजाफा करने जा रहा है।

अभी तक प्रति बंदर पकड़ने वाले को 450 रुपये दिए जाते थे। अब इसे 650 रुपये किया जाने वाला है।

------------------------------दक्षिणी दिल्ली में ऐसे हुई रोकथाम--2013 के सितंबर माह तक 7514 आवारा कुत्तों का बंध्याकरण

--1699 आवारा पशुओं को पकड़कर गौशाला भेजा गया--155 बंदरों को पकड़कर असोला भाटी माइंस में स्थानांतरित किया गया

--10 नई डॉग वैन की हो रही है खरीददारी, बंध्याकरण में करेंगी मदद ------------------------------------दक्षिणी दिल्ली में एक लाख से ज्यादा आवारा कुत्तेबजट प्रस्तावों में दक्षिणी दिल्ली नगर निगम स्थाई समिति के अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने दक्षिणी दिल्ली में एक लाख 15 हजार आवारा कुत्ते होने की जानकारी दी है।

उन्होंने डेढ़ साल के अंदर इनका बंध्याकरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके लिए आठ मोबाइल वैन की भी व्यवस्था की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीस करोड़ का बजट खा रहे कुत्ते और बंदर