DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदी के हेलीकॉप्टर को उतरने को लेकर विवाद

मोदी के हेलीकॉप्टर को उतरने को लेकर विवाद

प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की कोलकाता में जनसभा से एक दिन पहले भाजपा ने आरोप लगाया कि शहर के रेस कोर्स मैदान में उनके (मोदी) हेलीकॉप्टर को केंद्र के षड्यंत्र के तहत उतरने की इजाजत नहीं दी गई लेकिन कुछ ही घंटों में रक्षा मंत्रालय ने इसकी इजाजत दे दी।
 
पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष राहुल सिन्हा ने कहा कि हमें अंतत: रक्षा मंत्रालय से अनुमति मिल गई। मीडिया में खबर आने के बाद गलती सुधारते हुए केंद्र इसकी अनुमति देने के लिए बाध्य हुआ।
  
मोदी के कार्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है और वह नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर विमान से उतरने के बाद वहां हेलीकॉप्टर में सवार होंगे और सेना नियंत्रित रेस कोर्स मैदान जाएंगे। मोदी को कल ब्रिगेड परेड ग्राउंड मैदान में एक रैली को संबोधित करना है।
     
इससे पहले दिन में भाजपा ने दावा किया था कि सेना ने आखिरी समय में मोदी के हेलीकॉप्टर को शहर स्थित रेस कोर्स मैदान में उतरने की इजाजत देने से इनकार कर दिया क्योंकि उसका इस्तेमाल केवल राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री द्वारा किया जा सकता है किसी राजनीतिक व्यक्ति द्वारा नहीं।

सिन्हा ने कहा था, यदि उन्होंने हमें दो या तीन दिन पहले बता दिया गया होता तो हमने दूसरी व्यवस्था कर ली होती। केंद्र सरकार ओछी और तुच्छ राजनीति कर रही है। उन्होंने कहा कि यातायात जाम से बचने के लिए मोदी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से हेलीकाप्टर से लाने की योजना बनाई गई थी।

सिन्हा ने कहा कि मोदी की रैली के लिए तीन स्तरीय सुरक्षा घेरा होगा। पहले घेरे में एनएसजी और गुजरात के सुरक्षा अधिकारी, दूसरे में कोलकाता पुलिस और तीसरे में भाजपा के 52 पर्यवेक्षकों के तहत 1070 कार्यकर्ता रहेंगे। भीड़ पर छह निगरानी टावरों और सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी। कई प्रयासों के बावजूद यहां सेना के प्रवक्ता से सम्पर्क नहीं हो सका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोदी के हेलीकॉप्टर को उतरने को लेकर विवाद