DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मौत की सजा से बच सकते हैं इतालवी मरीन

केरल के तट के पास दो भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी दोनों इतालवी मरीन मौत की सजा से बच सकते हैं क्योंकि गृह मंत्रालय ने उन्हें मौत की सजा दिए जाने पर जोर नहीं देने को लेकर आज सहमति जताई।

उच्चपदस्थ सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्रालय ने यहां एक बैठक के दौरान अटॉर्नी जनरल जीई वाहनवती को इस रुख से अवगत कराया। मंत्रालय की राय है कि दोनों के खिलाफ संबंधित कानूनों के तहत सुनवाई हो लेकिन मौत की सजा संबंधी प्रावधान लागू नहीं किए जाएं। सूत्रों ने बताया कि अब गेंद एजी के पाले में है। उनके जल्दी ही अपने विचार देने की संभावना है।

एक दिन पहले ही उच्चतम न्यायालय ने सरकार से दो इतालवी मरीनों पर समुद्री डकैती विरोधी कानून लगाने के मुददे से जुड़े सभी विवादों को एक हफ्ते के भीतर सुलझाने को कहा था। गृह मंत्रालय का यह रुख इटली के समक्ष भारत द्वारा जतायी गयी इस प्रतिबद्धता के अनुरूप है कि दोनों के खिलाफ मौत की सजा से जुड़े प्रावधान लागू नहीं किए जाएंगे।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने दोनों मरीनों मैसिमिलियानो लाटोर तथा सल्वाटोर गिरोन के खिलाफ एसयूए के तहत अभियोजन के लिए अनुमति मांगी है। एसयूए के तहत अगर कोई व्यक्ति किसी की मौत का कारण बनता है तो उसे भी मौत की सजा मिलेगी।
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मौत की सजा से बच सकते हैं इतालवी मरीन