DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युगांडा की महिलाएं मदद के लिए पहुंची भारती के पास

युगांडा की महिलाएं मदद के लिए पहुंची भारती के पास

सेक्स और ड्रग रैकेट का पर्दाफाश करने के लिए दिल्ली के एक इलाके में आधी रात को छापा मारने की कार्रवाई करके अपने लिए मुसीबत को न्यौता देने वाले दिल्ली सरकार के कानून मंत्री सोमनाथ भारती अब अपनी छवि सुधारने की मुहिम पर हैं, जिसके चलते उन्होंने युगांडा की तीन महिलाओं को देह व्यापार में झोंके जाने से बचाया।

मालवीय नगर के खिड़की एक्सटेंशन में रहने वाली युगांडा की तीन महिलाओं ने हाल ही में दिल्ली पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराकर देह व्यापार करने वालों से संरक्षण दिए जाने की मांग की थी। दिल्ली सरकार में शिक्षा और शहरी विकास मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इन महिलाओं को पुलिस और यहां तक कि अपने युगांडा कमीशन तक पर कोई भरोसा नहीं था। वह हमारे कानून मंत्री सोमनाथ भारती के पास मदद और संरक्षण मांगने पहुंचीं।

उन्होंने कहा कि इसलिए ऐसे लोग जो उन्हें आधी रात के छापे की घटना को लेकर खलनायक की तरह पेश करने की कोशिश कर रहे हैं, अब खुद देख सकते हैं कि वहां क्या हो रहा है। मैं चकित हूं कि पुलिस ने उस इलाके में छापा नहीं मारा।

सिसोदिया ने बताया कि इन महिलाओं को जिला आयुक्त के कार्यालय में ले जाया गया, जहां उनके बयान दर्ज किए गए और अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।
 इन महिलाओं ने अपनी शिकायतों में कहा है कि उन्हें नौकरी देने का झांसा देकर भारत लाया गया था, लेकिन देह व्यापार में झोंक दिया गया।

सिसोदिया ने बताया, उनके पासपोर्ट ले लिए गए और उन लोगों ने इन्हें बताया कि पुलिस और युगांडा का उच्चायोग भी उनकी मदद नहीं करेगा। उनसे कहा गया कि अगर वह जीना चाहती हैं तो उन्हें समझौता करना होगा। महिलाओं की शिकायत है कि उन्हें मादक पदार्थ के माफिया ने बंधक बनाकर रखा।

ताजा घटनाक्रम पर टिप्पणी करते हुए भारती ने कहा कि मामला बहुत गंभीर, कष्टकर और दुर्भाग्यपूर्ण है। भारती ने कहा कि यह बहुत गंभीर मामला है और मैं दिल्ली महिला आयोग से आग्रह करूंगा कि वह इस मामले में स्वत: संज्ञान लें और दिल्ली पुलिस के उच्च अधिकारियों को तलब करें क्योंकि लड़कियों के बयान से यह खुलासा हो चुका है कि मादक पदार्थ और देह व्यापार के इन कारोबारियों से पुलिस की सांठगांठ है। युगांडा की यह महिलाएं कुछ लड़कों के साथ शनिवार को मौहल्लासभा के दौरान भारती के पास पहुंची थीं।

दिल्ली सरकार ने कल युगांडा की इन तीन महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए विदेश मंत्रालय के हस्तक्षेप की मांग की थी। सरकार का कहना था कि यह महिलाएं इस आरोप के साथ उसके पास पहुंची कि मादक पदार्थों के कारोबारियों ने उन्हें दक्षिण दिल्ली के मालवीय नगर में बंधक बना रखा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:युगांडा की महिलाएं मदद के लिए पहुंची भारती के पास