DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क दुर्घटना में मारे व्यक्ति के परिजनों को मुआवजा

हरिद्वार जाते समय लापरवाही से ट्रैक्टर चलाने के कारण मौत का शिकार हुए 32 वर्षीय व्यक्ति के परिजनों को मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण (एमएसीटी) ने करीब 40 लाख रुपये का मुआवजा देने के निर्देश दिए।


न्यायाधिकरण ने नेशनल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड को निर्देश दिया कि वह मृतक की पत्नी, नाबालिग बेटे और मां हेमंत भाटिया को 39 लाख 8 हजार 400 रुपये का मुआवजा दे। ट्रैक्टर का इंश्योरेंस इसी कम्पनी में था।

एमएसीटी के पीठासीन अधिकारी संजीव जैन ने कहा कि रिकॉर्ड के मुताबिक ट्रैक्टर के मालिक प्रतिवादी संख्या दो (मुकेश कुमार) हैं और इसका इंश्योरेंस प्रतिवादी संख्या तीन (नेशनल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड) में है।

मुआवजे की मांग करते हुए लोधी कॉलोनी निवासी भाटिया की पत्नी ने न्यायाधिकरण से कहा कि उनके पति अपने दोस्तों के साथ 19 दिसम्बर 2011 को अपनी कार से हरिद्वार जा रहे थे तभी लापरवाली से ट्रैक्टर चलाते हुए वाहन से दुर्घटना हुई।

भाटिया कार की अगली सीट पर बैठे हुए थे और जब वे रात एक बजे ज्वालापुर पहुंचे तभी तेज गति ट्रैक्टर ने कार को आगे से टक्कर मार दी। सोमपाल सिंह इसे लापरवाही से एवं तेज गति से चला रहा था।

टक्कर में भाटिया की घटनास्थल पर ही मौत हो गई जबकि उनके मित्र अजय माकन और रवि बालिया घायल हो गए और उन्हें हरिद्वार के सरकारी अस्पताल में ले जाया गया। भाटिया व्यवसाय करते थे और प्रति महीने उनकी आय 30 हजार रुपये थी। ट्रैक्टर के चालक और मालिक ने दावा किया कि दुर्घटना उनकी लापरवाही से नहीं बल्कि कार सवार लोगों द्वारा गलत दिशा में लापरवाही से कार चलाने के कारण हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सड़क दुर्घटना में मारे व्यक्ति के परिजनों को मुआवजा