अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेता गरचो-सरकार सुने, वरना बरसेंगे

अल्पसंख्यकों के संवैधानिक अधिकार तथा हक के लिए राजद ने शनिवार को न्याय मार्च निकाला। सैनिक बाजार से राजभवन तक गये। नेताओं ने राज्यपाल के नाम प्रधान सचिव अमित खर को मांग पत्र सौंपा और अकलियतों के लिए इंसाफ मांगा। बाद में वहीं पर सभा कर नेताओं ने कहा कि अल्पसंख्यक हितों को पूरा करने में सरकार गंभीरता दिखाये। राजद गराता है, तो बरसना भी आता है। अल्पसंख्यक हितों की अनदेखी बर्दाश्त नहीं कर सकते। न्याय मार्च का नेतृत्व प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा, गिरिनाथ सिंह, घूरन राम, संजय कुमार सिंह यादव, मनोहर यादव, आबिद अली, आबिद हुसैन अंसारी, मंजर अमीन, अफरो आलम ने किया। मार्च में पूर राज्य से अकलियत कार्यकर्ता जुटे थे, महिलाएं भी थीं।ड्ढr झंडा- बैनर, कटआउट लिए कार्यकर्ताओं ने जोरदार नारबाजी की। राजभवन से पहले पुलिस ने उन्हें रोक दिया, लेकिन भीड़ के दबाव से बैरिकेडिंग टूट गयी। सच्चर कमेटी तथा जस्टिस रंगनाथ मिश्र आयोग की सिफारिशों को लागू करने, अल्पसंख्यक आयोग, वक्फ वोर्ड, वित्त निगम, उर्दू एकेडेमी के गठन, मदरसा बोर्ड तथा विभिन्न आयोग में अल्पसंख्यकों की भागीदारी सुनिश्चित करने पर जोर दिया। इसके अलावा उर्दू शिक्षकों की शीघ्र नियुक्ित, सरकारी कार्यालयों में उर्दू में कामकाज समेत 13 सूत्री मांग पर राज्यपाल का ध्यान खींचा है। नेताओं ने कहा कि उर्दू हित को लेकर राजद शुरू से ही सरकार पर जोर देता रहा है।ड्ढr राजद के न्याय मार्च में जनार्दन पासवान, गुरुसहाय महतो, अभय कुमार सिंह, अफरो आलम, सुंदरी तिर्की, अनिल सिंह आजाद, शफीक आलम,डॉ जफीरूल्ला सादिक, डॉ यासिन अंसारी, इब्राहिम खां, प्रणय कुमार बबलू, विजयशंकर नायक, डॉ मनोज कुमार, अताउर्रहमान सिद्दीकी, हाजी संजर नवाज, मो फिरो अंसारी, शफीक खान, मो मोहसिन अंसारी, शाहिद सिद्दीकी, अरमानुल हक, ओंकारनाथ जायसवाल, अब्दुल खालीक, मो गुलजार, बनवारी लाल अग्रवाल, लीला दास, सरफराज अहमद, हातिम अंसारी, शौकत अंसारी, नसीम अंसारी, खुदा राम, शारदा देवी, अजरुन यादव, नेहरू यादव, विमला देवी, इश्तियाक अहमद, उमेरा खातून, गुलशन आरा, सुनील पटेल, संजय टाइगर, रामकुमार यादव, मनव्वर हुसैन, नुरु जमा, शमीम भारती, कुरैशा खातून, गुलशन अली आदि शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नेता गरचो-सरकार सुने, वरना बरसेंगे