DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोर्ड की लापरवाही ने बढ़ाया नकल माफियाओं का हौसला

हिन्दुस्तान संवाद अलीगढ़। यूपी बोर्ड परीक्षा में पहले ही जहां केन्द्रों को लेकर जद्दोजहद लगातार चल रही है, वहीं बोर्ड की ओर से प्रैक्टिकल की तारीखों में घालमेल उनके हौसलों को हवा देने का काम कर रही है। तिथि करीब आने और छात्रों की बेचैनी का फायदा उठाकर वे अपना हित साधने में लग गए हैं। कहीं शिक्षकों, तो कहीं लिपिकों को माध्यम बनाकर विषयवार वसूली शुरू कर दी गई है।

लेकिन सब कुछ जानते हुए भी शिक्षा विभाग आंख बंद किए बैठा हुआ है। प्रैक्टिकल की तिथि घोषित होने के बाद से ही नकल माफियाओं की सक्रियता शुरू हो गई थी। वे पहले दिन से ही अपना हित साधने में जुटे हुए थे। लेकिन इस बार बोर्ड ने भी उनके मंसूबों को हवा देने का काम करना शुरू कर दिया है। दूसरे चरण की परीक्षाएं शुरू हो गई हैं। आठ फरवरी तक इनको पूरा किया जाना है। लेकिन हालात ऐसे हैं कि जिले के कई विद्यालयों में आधा समय बीत जाने तक भी इसकी पूरी सूचना नहीं मिल पाई है।

कई जगहों पर कुछ विषयों की तिथि आई है, तो कुछ विषयों के परीक्षक और तिथि का पता भी नहीं चल रहा है। बोर्ड की इस लेटलतीफी और तारीखों के घालमेल ने एक बार फिर नकल माफियाओं के हौसले बुलंद कर दिए हैं।

उनकी लापरवाही का फायदा उठाते हुए वे अपनी दाल गलाने की जुगत में लग गए हैं। कहीं विद्यालयों में शिक्षकों को माध्यम बनाकर तो कहीं लिपिकों से सेटिंग कर छात्र-छात्राओं से अच्छे अंक दिलवाने के नाम पर विषयवार वसूली शुरू कर दी है।

अब देखना है कि शिक्षा विभाग की ओर से परीक्षा को नकल विहीन कराने का सपना प्रैक्टिकल में ही टूट जाता है या अब भी नकल माफियाओं पर शिकंजा कसने के लिए कोई कड़ा कदम उठाया जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बोर्ड की लापरवाही ने बढ़ाया नकल माफियाओं का हौसला