DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घर के सामने से अपहृत बच्चे की हत्या, मिला शव

देवरिया। भाटपाररानी। सोहनपुर। हसिं। बनकटा थाना क्षेत्र के नोनापर पाण्डेय निवासी अवधेश गुप्ता के अपहृत पुत्र की हत्या कर दी गई। घटना को अंजाम देने वालों ने शव को गांव के एक गड्ढे में फेंक दिया। शव मिलते ही ग्रामीण आक्रोशित हो गए और सलेमपुर- मैरवा मार्ग पर जाम लगा कर प्रदर्शन करने लगे।

इस बीच मौके पर पहुंचे दो सिपाहियों के किसी बात पर ग्रामीण भड़क गए और उन्हें दौड़ा कर पीट दिया। घटना की जानकारी मिलते ही एसपी रवशिंकर छबि कई थानों की पुलिस के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए। पुलिस ने जब शव को पोस्टमार्ट के लिए भेजना चाहा तो ग्रामीणों ने रोक दिया। गुस्साए लोग मांग करने लगे कि आरोपितों की गिरफ्तार, पीड़ित को मुआवजा और एसओ को सस्पेण्ड किया जाए। काफी प्रयास के बाद भी लोग अपनी जिद पर अड़े रहे।

इससे देर शाम तक शव मौके पर पड़ा रहा और सड़क जाम कर विरोध प्र्दशन जारी रहा। बनकटा थाना क्षेत्र के नोनापर पाण्डेय निवासी अवधेश गुप्ता का एक मात्र बेटा आदित्य (6) था। शनिवार की शाम को करीब छह बजे वह अपने साथियों के साथ घर के सामने खेल रहा था। अचानक बिजली गुल हो गई तो बच्चों अपने घर चले गए लेकिन आदित्य घर नहीं पहुंचा तो परिवारीजनों ने तलाश शुरू की। काफी तलाश के बाद भी वह नहीं मिला तो रविवार को पिता की तहरीर पर पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज कर लिया।

सोमवार की दोपहर में गांव के उत्तर तरफ खेत में काम कर रहे कुछ ग्रामीणों ने पानी भरे गड्ढे में एक शव पड़ा देखा। उन्होंने शोर मचाया तो दर्जनों लोग शव देखने के लिए मौके पर जुट गए। मौके पर बालक के परिवारीजन भी पहुंच गए और उसकी पहचान आदित्य के रूप में की। ग्रामीण पुलिस को सूचना देने के बाद सलेमपुर- मैरवा मार्ग पर स्थित अकटही चौराहे आकर सड़क जाम कर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। इसी बीच बाइक से बनकटा थाने के दो सिपाही धरना दे रहे लोगों के पास पहुंच गए।

सिपाहियों के किसी बात पर नाराज ग्रामीणों ने उन्हें दौड़ा कर पीट दिया। सिपाही किसी तरह से वहां से बच कर दूर चले गए और अधिकारियों को स्थिति बताई। इस दौरान शव के पास भीड़ लग गई और देखते-देखते धरना और रास्ता जाम कर दिया। ग्रामीण मांग करने लगे कि घटनास्थल पर डॉग स्क्वॉयड को बुलाया, एसओ को तत्काल सस्पेंड, परिवारीजनों को मुआवाजा दिया और कातिलों को गिरफ्तार किया जाए। मामला बढ़ते देख एसपी, एडीएम प्रशासन कृष्ण कुमार, कई थानों की पुलिस और पीएसी के जवान मौके पर पहुंच गए।

अधिकारी ग्रामीणों को समझाने बुझाने में जुट गए। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने को कहने लगे। इस पर गुस्साए लोग जिद् पर अड़े रहे कि जब तक मांग पूरा नही होगी तब तक धरना चलता रहेगा और शव यही पर पड़ा रहेगा। इसके चलते भारी पुलिस बल के साथ देर शाम तक अधिकारी मौके पर जमे रहे। ग्रामीण भी जाम लगा कर पुलिस और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घर के सामने से अपहृत बच्चे की हत्या, मिला शव