DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चेक दिया 480 का, निकाला 3.25 लाख

रांची। वरीय संवाददाता। यश प्रोजेक्टस प्राइवेट लिमिटेड ने 480 रुपए का चेक एक व्यक्ति को दिया। उसी चेक से उनके एकाउंट से 3.25 लाख रुपए की निकासी कर ली गई। पैसा निकालने की सूचना मिलने पर उसके कर्मी ने तुरंत लालपुर थाना और बैंक शाखा से संपर्क किया। फिर वे ठगने से बच गए। कंपनी द्वारा थाने में दिए गए आवेदन में बताया गया है कि एक व्यक्ति ने मोबाइल नंबर-08100384978 से उनसे संपर्क किया।

उसने बताया कि आइडीबीआइ बैंक ने एक स्कीम चलाया है। इसके तहत एकाउंट के ट्रांजेक्शन के आधार पर बिना कोई सिक्यूरिटी के ओवर ड्राफ्ट लिमिट सुविधा ग्राहकों को दी जाती है। इसके लिए उसने ऑडिट रिपोर्ट, बैंक स्टेटमेंट, ट्रेड लाइसेंस, सर्विस टैक्स रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, आरओसी सर्टिफिकेट सहित अन्य दस्तावेज मांगे। फिर अन्य बैंक से लोन होने से संबंद्ध सिविल चेक करने के लिए शुल्क के तौर पर 480 रुपए का चेक आइडीबीआइ सिविल नाम से मांगा। चेक पर सारा डिटेल व्यक्ति ने खुद ही भरा।

हस्ताक्षर खुद उन्होंने किया। फिर पीएनबी बैंक का एकाउंट स्टेटमेंट दिए मेल आइडी पर भेजने को कहा। इसके माध्यम से पैसे की ठगी कर ली गई। सूचना देने के बाद तुरंत पीएनबी, किशोरगंज शाखा के प्रबंधक ने आइडीबीआइ से संपर्क किया। वस्तुस्थित से अवगत कराया।

शहर में ठग गिरोह सक्रिय है। वे लोगों को ठगने का नया-नया तरकीब इजाद कर रहे हैं। झांसा भी देते हैं। इसके चक्कर में पड़ने से व्यक्ति तबाह हो सकता है। मुफ्त टॉक टाइम के नाम पर ठगीमुफ्त में टॉक टाइम देने का लालच देकर बैलेंस अपने नाम करने का काम भी कई गिरोह कर रहे हैं।

ठगी के लिए मोबाइल पर फोन कर व्यक्ति कंपनी का नाम पूछता है। इसके बाद रिचार्ज कितने दिन पहले और कितने का कराने की जानकारी लेता है। फिर कंपनी की ओर से मुफ्त टॉक टाइम देने का लालच देता है। उसके बाद बैलेंस ट्रांसफर कराने की प्रक्रिया शुरू करता है। कई बार अजीब तरह के नंबर से मिस कॉल भी आता है। उसपर फोन करने पर कुछ ही देर में काफी पैसा काट लिया जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चेक दिया 480 का, निकाला 3.25 लाख