DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुधीर के जाने का मुझे नुकसान होगा : सहाय

जमशेदपुर वरीय संवाददाता। पूर्व केंद्रीय मंत्री और रांची के सांसद सुबोध कांत सहाय ने कहा है कि सुधीर महतो के जाने से उन्हें अधिक नुकसान होगा। ईचागढ़ से वे जीतते थे तो उन्हें मदद मिलती थी और मैं जीतता था तो उन्हें सहयोग करता था। उन्होंने ये बातें उलियान में शहीद निर्मल महतो के समाधि स्थल पर सोमवार को कहीं।

वे सुधीर महतो के श्राद्ध भोज में शामिल होने पहुंचे थे और वहीं पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने ये बातें तब कहीं जब उनसे पूछा गया कि ईचागढ़ कुड़मी बहुल इलाका है और आपके लोकसभा क्षेत्र में पड़ता है। इसलिए सविता महतो के कथित अपमान की वजह से कहीं उन्हें तो नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा। सहाय ने कहा कि वर्तमान सरकार के घटक दलों से यह गलती हुई है कि उन्होंने बिना एक साथ बैठे राज्यसभा का प्रत्याशी घोषित कर दिया।

अगर साथ बैठ लिए होते तो यह नौबत ही नहीं आती। इसे उन्होंने नीतिगत चूक करार दिया। कहा, गठबंधन की राजनीति की पहली शर्त है सहमति, लेकिन तीनों में किसी ने इसका पालन नहीं किया। सविता महतो के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वह अच्छी भूमिका निभा सकती हैं।

कहा, इस परिवार को सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा की जरूरत है। वैसे उन्हें लगता है कि इस मामले में झामुमो नेतृत्व गंभीर है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि इस परिवार को जो नुकसान और अपमान हुआ, उसकी भरपाई मुश्किल है।

मरांडी के कारण धन वाले जीते सहाय ने आरोप लगाया कि झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी के कारण ही धन वाले लोग राज्यसभा चुनाव जीतने में सफल हुए। उन्होंने कहा कि यदि मरांडी ने सहयोग किया होता तो हम लोग दोनों सीट जीतते।

वे इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि मरांडी ने भी सविता महतो को राज्यसभा प्रत्याशी बनाने पर सहयोग की बात कही थी। पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के द्वारा भी सविता महतो को समर्थन की बात कहने पर उनकी टिप्पणी थी, भाजपा का चरित्र कितना महान है, यह आपने देखा नहीं है क्या? ये सभी घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुधीर के जाने का मुझे नुकसान होगा : सहाय