DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तबादले की सूची बनते ही प्रभावित होने लगा अभियान

जमशेदपुर संवाददाता। जिले में लंबे समय से जमे अधिकारियों की सूची चुनाव आयोग को भेजने के बाद से अधिकारी सुस्त पड़ गए हैं। यही वजह है कि कई अभियानों की गति धीमी हो गई है, फिर चाहे बात यातायात नियमों के उल्लंघन को रोकने की हो या फिर जमीन अधिग्रहण की।

पिछले महीने चुनाव आयोग ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 324 का 15(2) के तहत तथा अधिनियम 1951 के तहत दिशा निर्देश जारी किया गया है कि कोई भी अधिकारी एक ही जगह और एक ही पद तक तीन या तीन साल से ज्यादा दिनों तक नहीं रह सकता है।

ऐसे अधिकारियों के रहते चुनाव प्रभावित होने की आशंका बनी रहती है। यह आदेश एडीएम, एसडीओ, बीडीओ से लेकर आईजी, डीआईजी, एसएसपी, एसपी, एसडीपीओ, इंस्पेक्टर, एसआइ और एसआई पर लागू होगा।

इस तरह के अधिकारियों की सूची बनाकर जगह बदलने की गाइडलाइन सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को 16 जनवरी को भेजी गई थी। सूची में दर्जनभर से अधिक के नाम जिला प्रशासन और जिला पुलिस के एक दर्जन से अधिक अधिकारियों के नाम सूची में दर्ज हैं। एडीएम स्तर से लेकर थानेदार स्तर के अधिकारी शामिल हैं।

मानगो, जुगसलाई, बिष्टूपुर, साकची और गोलमुरी थाना के इस्पेक्टर और सब-इंस्पेक्टर के नाम शामिल हैं। डीएसपी ट्रैफिक राकेश मोहन सिन्हा ने स्वीकार किया कि तबादले की घोषणा से अभियान जरूर प्रभावित हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तबादले की सूची बनते ही प्रभावित होने लगा अभियान