DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेधा सूची में गड़बड़ी, अभ्यर्थियों का हंगामा

कार्यालय संवाददाता पटना। शिक्षक नियोजन की मेधा सूची में गड़बड़ी के लिए सोमवार को अभ्यर्थियों ने शास्त्रीनगर स्थित बालक हाईस्कूल में जमकर हंगामा किया। पालीगंज और धनरुआ की सूची में सबसे ज्यादा गड़बड़ी की शिकायत मिली है। हालांकि इस मामले को लेकर जांच का आश्वासन अभ्यर्थियों को दिया गया है। सोमवार को प्रखंड विद्यालयों में छठी से आठवीं कक्षा में नियोजन के लिए अभ्यर्थियों को बुलाया गया था।

अभ्यर्थी तो समय से पहुंच गए, लेकिन पालीगंज की नियोजन इकाई के सदस्य दस की जगह साढ़े ग्यारह बजे पहुंचे। इससे नाराज अभ्यर्थियों ने हंगामा किया। इसके बाद जैसे ही रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू हुई वैसे ही पालीगंज प्रखंड की मेधा सूची में गड़बड़ी के विरोध में अभ्यर्थियों ने हंगामा शुरू कर दिया।

वेबसाइट पर पालीगंज की मेधा सूची रोस्टरवार नहीं थी। यही नहीं, वैसे प्रशिक्षित अभ्यर्थी जिनका कटऑफ अधिक है, उनका भी नाम सूची में नहीं था। मगर कम कटऑफ वाले अभ्यार्थियों का नाम मेधा सूची में था।

सभी ने पालीगंज की मेधासूची को रद्द करने की मांग की है। अभ्यर्थियों ने धनरुआ प्रखंड की मेधा सूची में भी गड़बड़ी का आरोप लगाया गया है। केस एक सामान्य श्रेणी के प्रशिक्षित उम्मीदवार नीरज कुमार का अंक 59.14 फीसदी है, पर नाम मेधा सूची में नहीं है। वहीं 49 फीसदी अंक वाले अभ्यर्थी का नाम मेधा सूची है।

नीरज कुमार ने सामाजिक विज्ञान विषय के लिए आवेदन किया था। उसने सीधा नियोजन इकाई पर गड़बड़ी का आरोप लगाया। केस दो पिछड़ा वर्ग के भाई-बहन प्रशिक्षित अभ्यर्थी सुधीर कुमार का 63.14 फीसदी अंक और स्मिता कुमारी का 59.24 फीसदी अंक है।

रोस्टर में गड़बड़ी की वजह से दोनों अभ्यर्थियों का चयन नहीं किया जा सका। इनका सीधा आरोप है कि नियोजन इकाई ने गड़बड़ी की है। यह कैसे संभव है कि कम वाले का नाम रहेगा और अधिक अंक वाले का नाम हटा दिया जाएगा।

कुछ खासलोगों को फायदा पहुंचाने के लिए मेधा सूची से अधिक अंक वालों का नाम हटा दिया गया है। केस तीनएससी कोटे के अप्रशिक्षित उम्मीदवार मुकेश कुमार का 60 फीसदी अंक है, पर नाम सूची में नहीं है।

वहीं, 54 फीसदी अंक वाले अभ्यर्थी का नाम सूची में है। सामाजिक विज्ञान विषय में आवेदन करने वाले मुकेश कुमार ने बताया कि सूची में काफी गड़बड़ी है। केस चारपटना की प्रशिक्षित अभ्यर्थी अपूर्णा कुमारी का नाम हिन्दी की मेधा सूची में दूसरे स्थान पर है।

बाईपास में जाम में फंसने के कारण वह विलंब से वहां पहुंची। मगर रजिस्ट्रेशन नहीं करने दिया गया। कई बार अनुरोध करने पर अधिकारियों ने कोई बात नहीं सुनी। इसी तरह से दानापुर प्रखंड के लिए आयी प्रशिक्षित अभ्यर्थी नीलू कुमारी को भी रजिस्ट्रेशन नहीं करने दिया गया।

बलिया से आए धीरेन्द्र प्रसाद यादव का भी रजिस्ट्रेशन नहीं किया गया। गड़बड़ी की शिकायत मिली है। अभ्यर्थियों की शिकायत मिली है। प्राप्त आवेदनों की जांच की जाएगी। इसके बाद कोई फैसला लिया जाएगा। एक दर्जन से अधिक अभ्यर्थियों ने आवेदन दिया है। - श्वेता विश्वास, उप प्रमुख पालीगंज आवेदन मिला है, जांच की जाएगीदो महीने पहले ज्वाइन किया है।

कैसे रोस्टर तैयार किया गया मुझे नहीं पता है। पर जितने आवेदन प्राप्त हुए हैं उनकी जांच करायी जाएगी। बीईओ द्वारा सूची तैयार की गई है। रजिस्ट्रेशन में थोड़ा विलंब हो गया था। - निभा कुमारी, बीडीओ पालीगंज।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेधा सूची में गड़बड़ी, अभ्यर्थियों का हंगामा