DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेलवे दोहरीकरण में तीन ओवरब्रिज बने अड़ंगा

भागलपुर। कार्यालय संवाददाता। रेल दोहरीकरण के रास्ते में तीन ओवरब्रिज अड़ंगा बना हुआ है। कहलगांव, अंतीचक और भागलपुर हवाई अड्डे के पास वैकल्पिक बाईपास पर बने ये तीनों पुल अंग्रेजों के जमाने में बने हैं। समस्या यह है कि ये तीनों पुल सड़क आवागमन के दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण है।

अगर इन तीनों पुलों को तोड़ा जाएगा तो आसपास की आबादी को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। लेकिन दोहरीकरण के लिए इन तीनों पुलों को तोड़ना भी आवश्यक है। रेलवे के अधिकारी इस पसोपेश में हैं कि इन तीनों पुलों को कैसे तोड़ा जाए और जब तक नया पुल बनेगा तबतक उन जगहों पर आवागमन के लिए वैकल्पिक रास्ता क्या होगा। इस मसले पर पिछले छह महीने से अधिकारियों की मीटिंग हो रही है लेकिन अभी तक इसका कोई समाधान नहीं हो पाया है।

कहलगांव स्टेशन के बाद उत्तरी और दक्षिणी हिस्से को जोड़ने वाली यह पुल कहलगांव की जीवन रेखा है। अगर इस पुल को तोड़ा जाता है तो फिर कहलगांव एनटीपीसी और ब्लॉक की तरफ रहने वाले लोगों के लिए सड़क संपर्क खत्म हो जाएगा। वही हाल भागलपुर हवाई अड्डे के पास है। हालांकि यहां एक वैकल्पिक उपाय गोराडीह रोड है लेकिन अभी भी वैकल्पिक बाईपास से होकर कई छोटे-बड़े वाहन गुजरते हैं। रेलवे के निर्माण विभाग से यह काम किया जाना है।

हालांकि पिछले दिनों जोनल आफिस में हुई बैठक में मालदा डवििजन के पूर्व डीआरएम रवीन्द्र गुप्ता भी पहुंचे थे और उन्हें स्थानीय स्तर पर निरीक्षण कर वैकल्पिक व्यवस्था की रूपरेखा तैयार करने को कहा गया था। अभी भी बात यहीं अटकी है। अगले साल इस सेक्शन में रेल दोहरीकरण का काम शुरू होने की संभावना है। ऐसे में अगर इन तीनों पुलों के बारे में जल्द निर्णय नहीं होता है तो दोहरीकरण का काम रुक सकता है। क्योंकि दोहरीकरण का काम अब पीरपैंती से आगे बढ़ चुका है।

डीआरएम राजेश अरगल कहते हैं कि इस बारे में रेलवे कंस्ट्रक्शन विभाग से पहल की जा रही है। तीनों पुलों के बारे में जल्द ही निर्णय हो जाएगा। वहीं रेलवे कंस्ट्रक्शन विभाग के एक वरीय अधिकारी कहते हैं कि पुल को तोड़ने के लिए राज्य सरकार से पत्राचार किया गया है। इनमें से एक पुल के लिए एनओसी मिल चुका है।

उन्होंने बताया कि दोहरीकरण का काम रुकेगा नहीं। तीनों पुलों को तोड़कर वहां रेलवे ही नया पुल बनाएगा। इस दिशा में कार्य प्रगति पर है। राज्य सरकार के अधिकारियों से सहयोग के लिए संपर्क किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रेलवे दोहरीकरण में तीन ओवरब्रिज बने अड़ंगा