DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लंबे संघर्ष के बाद मिला था कांचनगरी को जिले का

फिरोजाबाद। हिन्दुस्तान संवाद। ढाई दशक पूर्व आगरा जिले का हिस्सा रहे फिरोजाबाद को जनपद का दर्जा देने के लिए छेड़े गए जन आन्दोलन से आगरा का प्रशासन ही नहीं, शासन तक हिल गया था। तब जनभावनाओं का सम्मान करते हुए कांग्रेस सरकार में प्रदेश के मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी ने फिरोजाबाद को जनपद का दर्जा दिए जाने की घोषणा कांचनगरी में स्वयं आकर की थी।

आज हम फिरोजाबाद शहर को 25 साल पूर्व जिले का दर्जा मिलने की रजत जयंती मनाने जा रहे हैं, उसके पीछे आम जन के संघर्ष की लम्बी दास्तान है। यह सफलता यूं ही नहीं मिल गई। इसके लिए एकजुटता के साथ धरना, प्रदर्शन, भूख हड़ताल ही नहीं जेल भरो आन्दोलन भी चलाया गया। तब कहीं जाकर पांच फरवरी 1989 को फिरोजाबाद में आकर तत्कालीन मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी ने कांचनगरी को जिला बनाने की घोषणा की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लंबे संघर्ष के बाद मिला था कांचनगरी को जिले का